अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक चिंगारी

इक चिंगारी भड़क भड़क कर ज्वाला बन जाती है
एक हृदय की चोट किसी को हाला  बन  जाती है
अपने घर में हो अपमानित वो भी किसी विदेसी से
ऐसे में घायल नाहर की ध्वनि गर्जन बन जाती है।

मंगल की अंतर पुकार  निष्ठा साहस बन जाती है
स्वाधीन रहने की मन मे  एक बार ठन जाती है।
स्वतन्त्रता की प्रथम आग बैरक पुर मे  जल जाती है
घर घर में तन्दूर जले  रोटी  संदेश बन जाती है।

 झांसी की रानी लक्ष्मी ने निज जौहर दिखलाया था
अंतिम स्वास लड़ी थी वह रण चन्डी बन जाती है
मंगल ने  शहीद  होकर  ही   फूँकी आज़ादी थी
कितने बलि बेदी झूले जिनकी स्मृति मन आती है। 

 

मेरठ झांसी कानपुर लखनऊ अम्बाला औ’ दिल्ली में
मचल पड़े थे सभी भारती फिरंगी फौज छुप जाती है।
बीजारोपण हुआ था तब आज़ादी का बाग लगाने को
आज उसी की  छाया में धरती उनके गुन गाती है।

 

अठारह सौ सत्तावन की चिंगारी फैल गई धीरे धीरे
रहा प्रयास निरंतर जारी वह चिंगारी न बुझ पाती है।
लाला लाजपत भगत राज गुरू चन्द शेखर बलिदानी
बापू की अहिंसा नीति फिर भारत स्वतंत्र करवाती है।

 

छोड़ो भारत का नारा फिर गूँजा गगन मझारी था
आज़ादी की लहर हर तरफ लहर लहर लहराती है।
सर पर बाँध कफ़न अपने निकल पड़ी बालायें थी
ध्वस्त फिरंगी राज हुआ आज़ादी भारत में आती है। 

 

नमन उन्हें भी है मेरा जिनको कोई जान नहीं पाया
ओ  भारत पर बलिदानी तेरे त्याग की स्मृति आती है
सदा तुम्हारा नाम हमारे जैसा फिर कोई  दोहरायेगा
स्वतन्त्रता की सुरभि सदा हर ओर महकती जाती  है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं