अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक गीत लिखने का मन है

एक गीत लिखने का मन है।


जिसमें माटी की सुगंध है, महुआ, जामुन औ कदंब है।
गुलमोहर है, अमलतास है, बागनबेली औ पलास है।
जहाँ जेठ की दुपहरिया है, औ अषाढ़ की रुन-झुन-झुन है।
स्निग्ध शरद की पूनम जिसमें, रंग रंग जिसका फागुन है।
धनखेतों की हरियाली है, पग पग में लिपटा सावन है।

 

                                                             ऐसा गीत लिखने का मन है।

 

जिसमें नूपुर की रुनझुन है, जिसमें बिंदिया की चमचम है,
तरल हो जैसे अंगड़ाई, औ पोर-पोर जिसका सरगम है।
जिसमें काया की माया है, जिसमें है उल्लास प्रणय का।
प्यासे अधर, मिलन की चाहत, वह पगला उन्माद हृदय का।
छंद छंद जिसका नर्तन है, पोर पोर जिसकी गुंजन है,

 

                                                              ऐसा गीत लिखने का मन है।

 

छविगृह की वह दीपशिखा है, कंकण-किंकिणी के मृदु-स्वर हैं।
मर्यादा-मय राम जहाँ हैं, लीलाधर नटवर नागर हैं।
पूरनमासी, यमुना तट है, ब्रज की गलियाँ, बंशी-वट है।
कालिन्दी पर बिछी ज्योत्सना लिपटी हो मेरे छ्न्दों से,
जैसे गोपियों के गालों से, कान्हा के तुतले अधरों से,

लिपटा कोई ब्रज-रज-कण है।


                                                              ऐसा गीत लिखने का मन है।

 

झाला की तलवारें झनझन, झांसी की गर्वीली रानी।
राणा का चेतक हो जिसमें शौर्य-प्रतिम पद्मिनी बलिदानी।
जिसमें गाँधी औ सुभाष हों, भगत सिंह हों, जयप्रकाश हों।
आज़ादी का तुमुल सूर्य हो, राष्ट्र-धर्म का प्रखर सूर्य हो।
राष्ट्र-वंदना भाषा जिसकी, हर स्वर जिसका जन-गण-मन है।

 

                                                              ऐसा गीत लिखने का मन है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं