अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गाँधी धीरे धीरे मर रहे हैं

(गाँधी जयंती पर विशेष )


गाँधी धीरे धीरे मर रहे हैं
हमारी सोच में
हमारे संस्कारों में
हमारे आचार व्यवहारों में
हमारे प्रतिकारों में
गाँधी धीरे धीरे मर रहें हैं।

 

गाँधी 1948 में नहीं मरे
जब एक आताताई की गोली
समा गई थी उनके हृदय में
वो गाँधी के मरने की शुरुआत थी
गाँधी कोई शरीर नहीं था
जो एक गोली से मर जाता
गाँधी एक विशाल विस्तृत आसमान है
जिसे हम सब मार रहें है हरदिन।

 

हम दो अक्टूबर को
गाँधी की प्रतिमाओं को पोंछते हैं
माल्यार्पण करते हैं
गाँधीवाद, सफ़ाई, अहिंसा पर
होते हैं  ख़ूब भाषण
शपथ भी ली जातीं हैं
और फिर रेप होते हैं
हत्याएँ होतीं हैं
राजनीति होती है
और हम तिल तिल कर
मारते जाते हैं गाँधी को।

 

अभी भी वक़्त है
अंतिम साँसें ले रहे
गाँधी के आदर्शों को
अगर देनी है संजीवनी
तो राष्ट्रनेताओं को छोड़नी होगी
स्वार्थपरक राजनीति
राष्ट्रविरोधी ताक़तों के विरुद्ध
होना होगा एकजुट।
कट्टारपंथियों को देनी होगी मात।
हमें ध्यान देना होगा
स्वच्छता,अहिंसा और सामुदायिक सेवा पर।
बनाये रखनी होगी सांप्रदायिक एकता।
अस्पृश्यता को करना होगा दूर।
मातृ शक्ति का करना होगा सशक्तिकरण।

 

जब कोई आम आदमी विकसित होता है
तो गाँधीजी उस विकास में जीवित होते हैं।
जब कोई दलित ऊँचाइयों पर जाता है
तब गाँधीजी मुस्कुराते हैं।
जब हेमादास भारत के लिए पदक लाती है
गाँधीजी विस्तृत होते हैं
गाँधीजी भले ही भारत में
रामराज्य का पूर्ण स्थापन नहीं कर सके।
भले ही वो मनुष्य को 
बुराइयों से दूर न कर सके।
किन्तु युगों युगों तक उनके विचार
प्रासंगिक रहेंगे।

 

गाँधी मानवता के प्रतीक हैं।
गाँधी श्रद्धा नहीं सन्दर्भ हैं।
गाँधी व्यक्ति नहीं भारत देश हैं।
गाँधी प्रेरणा नहीं आत्मा हैं।
सुनो
मत क़त्ल करो अपनी आत्मा का
मत मारो गाँधी को।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

साहित्यिक आलेख

नवगीत

कहानी

कविता

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

दोहे

लघुकथा

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं