अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गीत क्या मैं गा सकूँगा

प्यार के दो बोल लिख भी दूँ अगर इन चिट्ठियों में,
प्यार की भाषा तुम्हें मैं, क्या भला समझा सकूँगा?
ज़िन्दगी की आँधियों में काँपते हों जब अधर ये,
प्यार के रस में सने, ये गीत क्या मैं गा सकूँगा?

अब तो साजो-सोज़ की ख़्वाहिश नहीं कोई बची है,
सीधे सादे प्यार की दो बात ही तुमको सुना दूँ।
सामने तुमको बिठाकर गीत जो हमने रचा था,
दूर तेरी याद में, वह गीत फिर से गुनगुना दूँ।

वे तो फागुन की लहर में खिल उठे थे गीत मेरे,
आज सावन की तपिश में क्या उन्हें मैं गा सकूँगा?
प्यार के दो बोल लिख भी दूँ अगर इन चिट्ठियों में
प्यार की भाषा तुम्हें मैं, क्या भला समझा सकूँगा?

जब गुलाबों ने गुज़ारिश की थी कि वे लिपट जायें
और थोड़े रंग ले लें, वे तुम्हारे आँचलों से,
रात की रानी ने चाहा था चुरा ले मधुर-मादक,
गंध तेरी गात से, मदिरा नयन के काजलों से।

सभी मौसम फागुनी थे, जब हमारी ज़िन्दगी में,
सभी सीधे रास्ते थे ज़िन्दगी की मंज़िलों के।
गुत्थियाँ जो उलझती जा रहीं निशि-दिन ज़िन्दगी की,
सीधा-सादा आदमी मैं, क्या उन्हें सुलझा सकूँगा?

ज़िन्दगी की आँधियों में काँपते हों जब अधर ये,
प्यार के रस में सने, ये गीत क्या मैं गा सकूँगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं