अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

घाव दिये जो गहरे

शरमाती गोता खा कर
आँसू प्यास बुझाते
निकले गलबहियाँ डाले
सपनों के गलियारे।

रंग भरे, पर दुख देते
हरते सारी उर्जा
यादों के झकोरे हैं,
दिल-दिमाग़ पर कब्ज़ा
सखियाँ शायद प्रेम कहें
’क्रश’ का नाम देती
संदेस दिये, ट्वीट किया,
कुछ ना उत्तर भेजा

मनुहार किये, फुसलाया,
टस से मस ना निष्ठुर
चाल और भावुकता के,
मिलते नहीं किनारे।

पटक पटक कर सिर फोड़ा,
शायद सुने फरियाद
भरम कहूँ या धोखा यह
हिल गई जो बुनियाद
फिल्में देखी साथ बहुत,
मुझे नायिका कह कर
हाय! बना डाला बिरहन
अश्रु में डूबी याद

झाँसा दे, रहा चिढ़ाता,
प्यास बुझा ना पाये।
मधुजल कलष कल्पना में,
पीती सागर खारे।


लालच महलों के सपने
छोड़ न सका अभागा
जेवर, कपड़े उड़ा लिये
बता दिया फिर ठेंगा
नाते रिश्ते तोड़ चला
’प्लान’ छुपाया ऐसा
सूत्र नहीं छोड़ा कोई
लंपट ऐसा भागा

झंझावातों के विष में
डाल गया वह जीवन
पाप किया है क्या मैंने
घाव दिये जो गहरे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं