अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

घर (डॉ. कनिका वर्मा)

लोग कहते हैं कि 
घर इंसानों से होता है दीवारों से नहीं
आशियाना रिश्तों से बनता है 
ईंट-पत्थरों से नहीं 

 

घर ढूँढ़ते-ढूँढ़ते हर रोज़ 
दिन से रात हो जाती है
सड़कों पर भटकते हुए 
कई अजनबियों से मुलाक़ात हो जाती है

 

भूगोल पढ़ते-पढ़ते 
नक़्शों से प्यार ना होना आसान नहीं
पर कौन सा रास्ता घर को जाता है -
ये अनुमान नहीं

 

कभी लगता है घर तो 
मेरी माँ के आँचल में ही है
जिस में खेल-कूद के बड़ी हुई, 
उस पिता के आँगन में ही है


कभी लगता है घर तो उसके दिल में है, 
जिसने प्यार को नई परिभाषाएँ दीं
घर तो उसकी रूह में है, 
जिसके स्पर्श ने मेरे बदन को नई सीमाएँ दीं

 

कभी लगता है घर तो 
उस मासूम में है जिसे मैंने जन्म दिया
घर तो उसकी सरल मुस्कान में है 
जिसने मेरा प्रतिबिम्ब लिया

 

कभी पैसे को घर समझा 
कभी काम को
कभी मेहनत को घर समझा 
कभी आराम को

 

कभी आज़ादी में 
घर को ढूँढ़ा कभी बंदिश में
कभी अपनों में 
घर को ढूँढ़ा कभी रंजिश में

 

घर तो उनकी बातों में भी नहीं है 
जो कहते हैं इसे समझो अपना ही घर
घर तो उन विचारों में भी नहीं है 
जिनमें मैं भरती हूँ उड़ान हर पहर


कभी घर मिला किसी की आँखों में 
कभी किसी के मन में
कभी घर मिला किसी के शब्दों में 
कभी किसी के तन में


जब संबंधों को घर समझा तो 
वही बंधन प्रतीत हुए
मेरे ज़िंदा जज़्बात 
रिश्तों की मजबूरियों में फँस अतीत हुए

 

अपने घर में सुविधा से घिरी हुई 
मैं घर को रही हूँ खोज
एक घर से दूसरे घर भटकती हुई 
मैं ठहराव ढूँढती हूँ रोज़

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं