अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

घर की चिड़ियाँ और हम

आज फिर चावल के दाने घर के आगे वाले और पीछे वाले लॉन में बड़ी देर तक पड़े रह गये। चिड़ियाँ खाने नहीं आईं। दो माह पहले पाँच बजे दाने डाले और कुछ ही समय में २०-२५ चिड़ियाँ खाने-पीने और चहकने लगती थीं। उनके कलरव मन को उत्साह देते हैं, नवजीवन के प्रवाह को भी सत्य करते हैं। घर के आगे चिड़ियाँ दाने खातीं व अपने नवजात बच्चों के मुँह में घुसेड़ती बड़ी भली लगती हैं। सतर्क वो इतनी कि हम ज़रा सा झूले में माला करते-करते ज़रा सी करवट भी लें तो फुर्र से उड़कर घर की छत पर या ऊँचे पेड़ पर चली जातीं। वे पक्षी हैं, उनके पास ईश्वर ने उड़ने का विशेष गुण दिया है। साथ ही वे बँधी भी तो नहीं हैं। उनकी हमारी क्या तुलना? वे कितनी स्वतन्त्र हैं। वे कर्म.. पूर्ण कर्म में विश्वास रखती हैं। बच्चे पाले और आगे बढ़ गईं। आज यहाँ, कल वहाँ और फिर जहाँ भी गर्मी-सर्दी उनकी इच्छा अनुरूप हुई; चली गईं। हम लोगों से भिन्न, घर में गड़े बैठे हैं, उसी में फँसे बैठे हैं। कहीं भी जाओ मन नहीं लगेगा, घर पर पहुँच कर ही शान्ति मिलती है। बच्चों के पीछे जान दिये जा रहे हैं, कब होंगे, कब आएँगे, आदि की आस-निरास में बँधे।

कभी-कभी तो लगता है जैसे कोई-कोई गौरैया गर्दन घुमा-घुमा कर हमें पहचानने का प्रयास भी करती लगती है। उसे हम अपने जीवन की शैली कहाँ बता सकते हैं। वे तो स्वतन्त्र हैं परन्तु हम जो इस मानव शरीर में बैठे हैं, कितने बन्धनों में हैं। घर-द्वार के बन्धन, संसार के, आध्यात्म उत्थान के बन्धन, अतिथि सत्कार के बन्धन, और ऊपर से अपने आप पर स्वयं लगाये अनेक अंकुश और बन्धन। क्या करें समय का भी तो एक बन्धन है। फिर भय हैं अनेक - जो पीछा नहीं छोड़ते। स्थान छोड़कर यहाँ आये तो चाहे अच्छा लगा हो ना लगा हो, बसना तो पड़ा ही ना। स्थितियों, परिस्थितियों से समझौते करते-करते जाने कितने वर्ष बीत गये इस बीच। परिवर्तन इतने हुये, क्योंकि काल तो किसी की प्रतीक्षा करता नहीं, अपनी शक्ति से सबको आगे ढकेलता रहता है। सोई हम भी ढकिलते हुये यहाँ तक पहुँच गये। यूँ तो शान्ति है, सुबह माला, पूजा का समय और तुम्हें दाना डालने का समय, उगते सूर्य देव के दर्शन का समय, आकाश के बदलते रंग देखने का समय। इतने वर्षों में नाती-पोतों के लिए उनकी रुचि का भोजन बना पाने का समय, उनके साथ पार्क जाकर झूला झूलने और झूलाने का समय, राह पर चलते-चलते सड़क के किनारे से ईंट-पत्थर.. छोटे-छोटे... अपनी हथेलियों में ले पाते देखने का समय, उड़ती चिड़ियों व तितलियों के पीछे उनको भागते देखने का समय, घर पर झूले पर बैठकर कुछ खाने-गिराने का समय, लोरी सी गा कर माथे पर भवों पर हाथ फेर कर उनकी छोटी-छोटी नींदों को बुलाने का समय – सब मिलता है।

शायद यही जीवन भी है, हर पल नये को जीना। पिछला याद तो आता है परन्तु सदा सुख ही देगा, यह आवश्यक भी तो नहीं। और जैसे सुख-दुःख चोटी की तरह गुथे हैं, जीवन भी यों ही गुथा सा कभी भाता है, कभी मन उचाट कर जाता है। किन्तु तुम सब अब कहाँ चली गई हो? घर के आगे-पीछे क्यों चावल के दाने देर तक पड़े रहते हैं? हम भीतर चले जाते हैं, थोड़ी शीत आती लग रही है। इस दफ़े ठीक से गर्मी पड़ी ही नहीं। यों तो ठीक हुआ किन्तु उतने गमगमा कर फूल भी तो नहीं खिले। ये ऋतु काफी छोटी हो कर निकल गई। कहीं-कहीं तो अभी से पत्तों के रंगों में परिवर्तन आ गया जो अक्टूबर के अन्त में आता। चलो खैर तुम्हारे बच्चे तो पल गये। अब तुम उनके साथ नई जगह में उड़ कर जा चुकी हो। पूरी सर्दी के मौसम में तुम लोगों की याद आयेगी। हम बड़े दिल व मन से तुम सबका रास्ता देखेंगे। तुम्हारे पहले चरण तुम्हारी पहली चहक का इन्तज़ार रहेगा। हाँ, अगर हम स्वस्थ रहे तो! क्योंकि कोई नहीं जानता कल क्या होगा? खैर, तुम जहाँ भी होगी, जीवन का संचार कर रही होगी। यही तो है तुम्हारी सम्पूर्ण पूजा जो मौन व पवित्र है। हमें भी मौन रह कर अपने अस्तित्व से ईश्वर का ध्यान व धन्यवाद करना चाहिये – चलो फिर प्रतीक्षा में तुम्हारी सहेली भानुजा देवीदासी।


 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

एक ख़त ख़ुदा के नाम
|

मेरे आक़ा, मेरे मौला: तेरा ये नाचीज़ बन्दा…

किसी की आँख खुल गयी - किसी को नींद आ गयी
|

मंदिर में सत्संग हो रहा था। भक्ति में डूबी…

झाँझी-टेसू का ब्याह
|

“झिंझिया आय गई, झिंझिया आय गई”--…

नर्मदा की ज़ुबानी प्रदूषण की कहानी
|

मैं नर्मदा हूँ आप सभी की आदि माँ। मेरी उम्र…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

सामाजिक आलेख

स्मृति लेख

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं