अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ग्लानि

रत्नावली की शादी को क़रीब १८-१९ वर्ष बीत गये थे। उसके पति माणिक अक़्सर मीटिंग, सेमिनार तथा कॉन्फ़्रेंस में देहली आदि शहरों में जाते रहते थे। उनकी बहिन देहली में रहती थी। अत: उन्हें देहली जाना बहुत अच्छा लगता था। एक बार वह ६-७ दिन की मीटिंग के बाद आये। आने पर बहुत व्यस्त हो गये। शनिवार को रत्नावली  ने कहा कि विश्वविद्यालय जाने लायक़ साड़ी लेने बाज़ार चलेंगे। हुआ कुछ इस तरह कि रत्नावली डीसीएम की सूती धुली, कलफ़ की हुई  साड़ी पहन कर कॉलेज गई थी। अवकाश के समय एक सीनियर टीचर ने रत्नावली के साथ चलते चलते कहा कि जब साड़ी ऐसी हो जाती है तो रात को सोने के समय हम पहनते हैं। बात कुछ समझाने के लिये साधारण लहजे में कही गई थी। रत्नावली गांधी जी के सादा जीवन उच्च विचार का अनुसरण करती थी। अत: उसका ध्यान उस ओर गया ही नहीं था। बात साड़ी ख़रीदने की हो रही थी। 

जैसा अक़्सर पति पत्नी के बीच होता है, दोनों में ख़रीददारी, वह भी साड़ी को लेकर बहस छिड़ गई। बातों-बातों में पति ने कहा कि तुम्हारे पास इतनी साड़ियाँ हैं तब ऐसे कह कर दोष लगा रही हो। बात कुछ अधिक बढ़ गई। पति ने ताना दिया कि कम से कम सौ साड़ी तो उसके पास होंगी। रत्नावली की आँखें नम हो गईं, उसने कहा कि आप गिन लें। अगले दिन रविवार था, पति देव ने बिटिया को बुलाया और साड़ी गिनने बैठ गये। रत्नावली ने अलमारी के साथ-साथ संदूक भी लाकर रख दिया। शादी से लेकर उस दिन तक ख़रीदी, माँ से मिली तथा शादी में ससुराल से मिली साड़ी सब उसमें थीं। कुछ साड़ियाँ फटी थीं, कुछ बदरंग हो गईं थीं। कुछ की किनारी तार-तार हो रही थी। रत्नावली  का तो जैसे ख़ज़ाने का सच बेपरदा  रहा  था।

वह अपना अपमान व आँसू छिपाने के लिये रसोई घर में चली गई। सब साड़ियाँ कुल मिला कर पचास भी नहीं निकली, जिसमें पति की दिलाई २-३ साड़ी ही थीं। पति सब गिन-गिना कर बिटिया से बोले कि सब साड़ी ठीक से अलमारी में रख  देना। और चुपचाप उठ कर चले गये। 

उस दिन के बाद जब भी पति देव किसी शहर में मीटिंग आदि के लिये जाते तो वहाँ की ख़ास साड़ी लाने लगे। गाहे-बगाहे किसी किसी बहाने से बाज़ार ले जाकर साड़ी कपड़ा दिलाने लगे। रत्नावली को उनकी लाई प्रत्येक साड़ी में उनकी ग्लानि की ख़ुशबू  आती थी। परन्तु कहा कभी  कुछ नहीं। शायद उन्हें अपने पर बहुत ग्लानि हुई थी। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कहानी

कविता

ललित निबन्ध

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं