अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लम्बी कविता हाहाकार के कुछ अंश प्रसंगः कश्मीर

नाखून विषैले

बढ़े हुए नाखून देख चिंतातुर हूँ मैं 

सामाजिक अव्यवस्था से 
मुँह चिढ़ाते वे भी चिंतातुर हैं 
अराजकतारूपी मैल अपने समा 
अति विकराल और घिघौने बन 
इठलाने को। 

बढ़े हुए नाखून बताते सिर से 
ऊपर होना पानी का 
और आगे सहने से बेहतर है मैं 
ले "नेलकटर" जुट जाऊँ 
उस विकृति में नवीन 
परिवर्तन लाने को। 

बढ़े हुए नाखून ही वो सच है 
पुनरावृत्ति करते हैं जो अतीत की 
"यदा-यदा हि धर्मस्ये" के सूत्रवाक्य का 
करते अर्थ साकार 
तभी जन्मता "नेलकटर" एक बन अवतार 
मचल उठती हैं फिर सदियाँ, एक अच्छा 
विषयान्तर पाने को। 

बढ़े हुए नाखून विषैले खुरच रहे हैं 
सुन्दर चेहरे सा देश मेरा 
मैल जमी है जिनमें भीषण एक विषैले "वाद" की 
हे सृजनशक्ति! 
बनो तुम नेलकटर, उज्ज्वल 
भविष्य बनाने को। 

बढ़े हुए नाखून देख चिंतातुर हैं 
सब......! 

हाहाकार (प्रसंगः कश्मीर) 

स्वर्ग धरा पर बसता था जहाँ
हर आँगन थी केसर क्यार,
लगा ग्रहण आतंकी अब तो
चहुं ओर है हाहाकार।


बारूदी अब गंध वहाँ की
संगीनों के साये हैं,
सहमा-सहमा सा बचपन है
चेहरे हैं मुरझाए से,
खो गई बच्चों की किलकार
चहुं ओर है हाहाकार।

झड़े चिनार के सारे पत्ते
अगनित बम धमाकों से,
नहीं नजर आते हैं पक्षी
अब पेड़ों की शाखों पे,
ठूंठ रह गए पेड़ चिनार
चहुं ओर है हाहाकार।

गोली का ईमान न कोई
नहीं देखती मजहब को,
जो इनको है दाग रहा वो
नहीं जानता मजहब को,
अनजाने कर रहे हैं वार
चहुं ओर है हाहाकार।

तिरछी नज़रों से देखा है इन ने
हर मन्दिर की आरत को,
सदा छला है सदा छलेंगे
भोले भाले भारत को,
छीना भारत माँ का शृंगार
चहुं ओर है हाहाकार।

बेकसूर मारे जाते हैं 
इनकी निर्दयी गोली से,
खो देती है लाज माँ बहनें
उठा ली जातीं डोली से,
आँखों से बहती है धार
चहुं ओर है हाहाकार।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

कविता

लघुकथा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं