अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हैप्पी बर्थडे

"मेनी मेनी हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे बेबी बिटिया, जन्मदिन मुबारक हो," बिस्तर पर लेटी बेबी को प्यार से गोदी में लेते हुए उसकी माँ ने कहा। बेबी कुनमुनाई और माँ के गले में अपनी बाँहे डालकर उससे लिपट गई। मम्मा, आपने प्रॉमिस किया था, "मेरी बार्बी डॉल .."

"अरे सब कुछ मिलेगा बिटिया, बिस्तर से बाहर तो आओ, चलो जल्दी से।" बेबी ने आँखें खोलीं और अलसाते हुए बिस्तर से बाहर निकली। बाहर निकलते ही कमरा हैप्पी बर्थडे बेबी बिटिया की गूँज से गूँज उठा।

बेबी ने देखा तो वहाँ पापा, दादी, बुआ, भैया सब खड़े थे, सबके हाथ में उपहार थे, उसके मनपसंद खिलौने । वह खुशी से झूम उठी। हरेक ने उसे गोदी में उठाया, प्यार किया और उपहार दिए । तरह-तरह के खिलौने और कपड़े... बुआ सुन्दर ड्रेस लाई थी, पापा रिमोट वाली कार, दादी के हाथ में चॉकलेट के डिब्बे थे और भैया के हाथ में बार्बी डॉल। बेबी झूम उठी थी।

"चलो, जल्दी-जल्दी तैयार हो जाओ, कल की पार्टी के लिए कुछ खरीदारी करनी है और ...," भैया उत्साह से बोला।

"हाँ, और लौटते समय आइसक्रीम भी खानी है," ..बेबी ख़ुश होकर बोली।

अपनी अलमारी में खिलौने जमाते-जमाते बेबी के हाथ में एक गुडिया आई।

"माँ, ये गुड़िया तो पुरानी हो गई है, क्या इसे लाली को दे दूँ?"

"हाँ, दे दो!" माँ ने रसोई से जवाब दिया था।

लाली एक कोने में सिकुड़ी-सिमटी खड़ी थी। बेबी ने गुड़िया उसकी और उछाल दी। गुड़िया पाते ही लाली की ख़ुशी की सीमा न रही। वह भागी-भागी घर गई। गुड़िया का एक हाथ कंधे से अलग हो रहा था, उसपर धागे से टाँका लगा दिया। बस्ती के बच्चे लाली के पास जमा हो गए।

"एक बार मुझे भी हाथ लगाने दो न गुड़िया को," सबके मन में उस महँगी गुड़िया को देखकर उसे छूने की आकांक्षा प्रबल हो चली थी।

"लाली, सच बता, बेबी ने ये गुड़िया तेरे को क्यों दी?" कमली पूछ बैठी।

"अरे, आज मेरा हैप्पी बरडे था न, तभी तो मैं माँ के साथ गई थी...मुझे पता था कि .."

लाली खुद से हँस दी थी अपने कुशल झूठ पर ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं