अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हाथियों का विरोध ज्ञापन 

जंगल के हाथी आज सुबह सुबह काफ़ी रोश में गजराजाधिराज के पास एकत्रित हो गये थे। शोर सुनकर वे अपने आशियाने से बाहर निकल आये थे। 

गजराजधिराज कहते हैं क्या बात है? कुछ युवा हाथी बिफर पडे़ थे! वे बोले क्या आपने आज का अख़बार नहीं पढ़ा? आपके यहाँ तो न जाने कितने अख़बार आते हैं। 

वह बोले कि आज मैं देर से उठा हूँ इसीलिये आज का अख़बार नहीं पढ़ पाया। लेकिन आज तुम्हारे यहाँ जमा होने से अख़बार का क्या संबंध है? 

अब एक युवा हाथी चिंघाड़ उठा, "क्यों नहीं है संबंध?? अख़बारों से ही अब हमारी लड़ाई है आज क्या-क्या नहीं लिखा है इन लोगों ने। कोई लिख रहा है कि ’सायकिल की टक्कर से हाथी घायल’, ’सायकिल ने हाथी को कुचला’। एक ने लिखा है कि ’अब सायकिल हाथी को सवारी करवायेगी’। व्यंग्य का कुछ स्तर तो होना चाहिये।"

हाथी समुदाय गजराजाधिराज को तुरंत एक्शन लेने के लिये कह रहा था। उनका कहना था कि हाथी प्रजाति यू.पी. के चुनावी दंगल के कारण लगभग चार माह से अपमान झेल रही है। पहले जगह-जगह मूर्तियाँ ढक दी गयीं। हमें बहुत बुरा लगा, लेकिन हम चुप रहे; मामला ’चुनाव आयोग’ का था; हम भी चुनाव आयोग का सम्मान करते हैं। इसीलिये कुछ नहीं बोले। एक युवा हाथी जो बाहर से क़ानून की डिग्री लेकर आया था बहुत ज़्यादा उत्तेजित था। वह तो कोर्ट मे रिट पिटीशन लगाने की बात कर रहा था। वह आगे बोला कि पी.आई.एल. दायर करने मे कुछ समय लगेगा। तब तक ’सूचना के अधिकार’ के तहत जानकारी प्राप्त करना उचित होगा कि मीडिया मे इतनी असम्मानजनक बातें जब लिखी जा रही थीं तो ये सरकार कर क्या रही थी?

इसी समय एक दूसरा हाथी जो कि ’पर्यावरण विज्ञान’ मे डिप्लोमा कर रहा था। बोल उठा कि वो मेनका जी कहाँ थीं हमारे मसले पर? ये गहन चुप्पी! अभी टाईगर का मामला होता तो सबने ज़मीन आसमान एक कर दी होती। नंगे से ख़ुदा डरता है। 

अंत में विचार विमर्श के बाद यह निर्णय हुआ कि कोई भी हाथी मनुष्यों के धार्मिक कार्यों में अपनी सहभागिता नहीं करेगा, सबसे बडे़ जोकर- मनुष्य के किसी भी सर्कस में कोई करतब नहीं दिखाया जायेगा। जब तक कि सार्वजनिक रूप से माफ़ी नहीं माँग ली जाती है राष्ट्रपति के नाम एक विरोध ज्ञापन भी तत्काल भेजने का निर्णय किया गया। मीडिया मेनेजमेंट के लिये एक "हाथी मेरा सबसे सही साथी" नामक चैनल भी शुरू करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया।

एक माह बाद पुनः मीटिंग के निर्णय के साथ सभा समाप्त हुई। 
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'हैप्पी बर्थ डे'
|

"बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का …

60 साल का नौजवान
|

रामावतर और मैं लगभग एक ही उम्र के थे। मैंने…

 (ब)जट : यमला पगला दीवाना
|

प्रतिवर्ष संसद में आम बजट पेश किया जाता…

 एनजीओ का शौक़
|

इस समय दीन-दुनिया में एक शौक़ चल रहा है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

आत्मकथा

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं