अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हिन्दी टाईपिंग रोमन या देवनागरी और वर्तनी

प्रिय मित्रो,

अन्ततः अपनी आँखों की समस्या से छुटकारा पाकर एक बार फिर साहित्य कुंज को आरम्भ कर रहा हूँ। मैं अपने डॉक्टरों के प्रति कृतज्ञ हूँ जिनके उपचार से एक बार फिर से ठीक देख पा रहा हूँ और उन जनों की आत्मा की शान्ति के लिए करबद्ध हूँ जिनके नेत्रदान से मेरी आँखें ठीक हो सकीं।

अंतरजाल पर विभिन्न मंचों पर हिन्दी की स्थिति के विषय में चर्चाएँ हो रही हैं जो कि सार्थक सोच का परिणाम है। इन मंचों पर युवा हिन्दी-भाषी लोगों या लेखकों के विचार पढ़ने को नहीं मिलते। इसके क्या कारण हैं इस पर भी विचार होना चाहिए ताकि हम युवा पीढ़ी से सुन सकें कि वह हिन्दी के विषय में क्या सोचती है और उसकी क्या समस्याएँ हैं कि वह हिन्दी लिख-पढ़ नहीं रही है। भारत से आए युवाओं की अंग्रेज़ी सुन और समझ कर एक बात तो समझ आती है कि कम से कम यह पीढ़ी सोच तो अभी भी मातृभाषा में ही रही है, क्योंकि उनकी भाषा में अनुवाद की झलक रहती है। यह एक आशाजनक तथ्य है।

एक मंच पर यह चिंता भी व्यक्त की गई कि भावी पीढ़ी हिन्दी भाषा को बिल्कुल भूल जाएगी क्योंकि वह हिन्दी भी रोमन में लिख रही है, देवनागरी में नहीं। यह शोचनीय बात है। यद्यपि अब देवनागरी में टाईप करने के विकल्प उपलब्ध हैं और सहजता से उपलब्ध हैं; तो फिर देवनागरी की बजाय वह हिन्दी को रोमन में क्यों लिख रहे हैं? हिन्दी टाईपिंग को अपनाने की झिझक क्यों? रोमन की-बोर्ड द्वारा एक बार हिन्दी टाईप करने की आदत पड़ जाने के बाद देवनागरी के की-बोर्ड का अभयस्त होने के लिए परिश्रम तो करना ही पड़ेगा, परन्तु रोमन की-बोर्ड द्वारा सही हिन्दी भी तो नहीं लिखी जा सकती है। पीड़ा तो तब होती है जब मेरी पीढ़ी के लोग स्थिति को ज्यों का त्यों रखने का तर्क देने लगते हैं। ऐसे लोग इतने से ही सन्तुष्ट हैं कि युवा पीढ़ी कम से कम हिन्दी तो लिख रही है चाहे रोमन में ही क्यों न हो। भाषा के उच्चारण की शुद्धता का प्रश्न उठते ही यह कोई भी विकल्प नहीं सुझा सकते क्योंकि किसी भी भाषा के सही उच्चारण के लिए उसी भाषा की लिपि अनिवार्य है। रोमन में लिखने का ही परिणाम है कि अब मेरी पीढ़ी के लोग भी की-स्ट्रोक की गिनती कम करने के चक्कर में हिन्दी की दुर्दशा कर रहे हैं। चन्द्र बिन्दु का प्रचलन ही लुप्त होता जा रहा है। ड़ या ढ़ के नीचे बिन्दी लगाने में सुस्ती दिखाई देती है। में अब मे बन चुका है और नहीं, नही हो चुका है। गत कुछ वर्षों से यह सुन रहा हूँ कि लोग अब बोल भी वही रहे हैं जो वह लिख रहे हैं।

कुछ माह पहले भारत से आए एक सेवा निवृत्त प्राध्यापक से मिलने का अवसर प्राप्त हुआ। जहाँ ठहरे थे एक कवि गोष्ठी का आयोजन हुआ, उनसे पहली बार वहीं मिला। भारत लौटने से पहले वह मुझसे मिलना चाहते थे, सो उन्हें मैंने अपने घर आमन्त्रित किया। इस बार वह केवल मुझसे ही मिलना चाहते थे, इसलिए अन्य साहित्यप्रेमी मित्रों को न बुला सका। मन में यह प्रश्न भी बार-बार उठ रहा था कि मुझसे अकेले क्यों मिलना चाह रहे हैं… क्या अनजाने में कोई धृष्टता कर दी है; उम्र से मुझसे बड़े थे, इसलिए मेरी चिंता भी स्वाभाविक थी। ख़ैर आवभगत के बाद जब मैं और वह अलग ड्राईंग रूम में बैठे तो चर्चा हिन्दी भाषा और साहित्य कुंज की होने लगी। अचानक वह बोले, “सुमन जी आप तो बेकार में ही वर्तनी सुधारने पर ज़ोर देते हो; क्या फ़र्क पड़ता है कि चन्द्रबिन्दु है या बिन्दी - आंख को आप पढ़ेंगे तो आँख ही। वैसे अगर लिखने वाले बिन्दी ख पर भी लगा दी यानी आखं लिख दिया तो भी आप फिर भी इसे आँख ही पढ़ेंगे।” इसके बाद जितना समय भी वह बैठे, बस मैं इधर-उधर की ही बातचीत करता रहा। भाषा और साहित्य की बात क्या करता? अगले दिन डॉ. शैलजा सक्सेना से इस विषय पर बात हुई तो दोनों के मन को यह प्रश्न सालता रहा कि जिन विद्यार्थियों को इन्होंने वर्षों तक विश्वविद्यालय में पढ़ाया होगा, उनका भाषा ज्ञान क्या होगा?

भारत से दूर रहते हुए जब भारतीय हिन्दी टीवी के कार्यक्रम या फ़िल्में देखता हूँ तो हिन्दी के प्रति चिंतातुर हो जाता हूँ। टीवी के कुछ सीरियल हैं जिनमें अब शुद्ध हिन्दी के शब्द सुनने को मिल रहे हैं, जो कि अच्छा लगता है, परन्तु जब इन्हीं कार्यक्रमों से पहले या नीचे अस्वीकरण इत्यादि दिखाये जाते हैं तो वर्तनी की दुर्दशा देख मन खिन्न हो जाता है। एक कॉमेडी शो है जिसके निर्देशक या लेखक इस तथ्य से अनिभिज्ञ नहीं हैं अपितु इसका उपयोग वह व्यंग्य के रूप में कर रहे हैं। इस सीरियल में जब सीन की पृष्ठभूमि में दुकानों के साईन बोर्ड या दीवारों पर पुते विज्ञापन दिखाये जाते हैं, उनमें जानबूझ कर ग़लत वर्तनी के द्वारा हास्य को पैदा करने का प्रयास किया जाता है। यानी कुछ तो सजग लोग हैं जो इस समस्या को अपने ढंग से या अपनी कला द्वारा सामने लाने का प्रयास कर रहे हैं।

इस विषय पर आपके विचार आमन्त्रित हैं। आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी।

– सादर
सुमन कुमार घई

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 लघुकथा की त्रासदी
|

प्रिय मित्रो, इस बार मन लघुकथा की त्रासदी…

अंक प्रकाशन में विलम्ब क्यों होता है?
|

प्रिय मित्रो, अंक प्रकाशन में विलम्ब क्यों…

आवश्यकता है युवा साहित्य की
|

प्रिय मित्रो, हिन्दी की संगोष्ठियों के आयोजक…

उलझे से विचार
|

प्रिय मित्रो, गत दिनों से कई उलझे से प्रश्न…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

पुस्तक चर्चा

कविता

किशोर साहित्य कविता

सम्पादकीय

पुस्तक समीक्षा

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं