अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हम स्वयं विषपायी हैं

कोरोना के डर से 
जब सब लोग बंद हैं अपने घरों में
अपने को सुरक्षित बना लिया है सबने
खाद्य सामग्री और दैनिक ज़रूरतों की चीज़ें
जुटा ली हैं कई महीनों तक के लिए
तो ये कौन हैं जो संकटकाल में
पलायन कर रहे हैं ?
इन्हें महामारी का डर नहीं?
मीलों लंबी क़तार बनाकर
अनजाने-अनचाहे, बेबस
एक-दूसरे की साँसें खींचते हुए
अपने घरों तक पहुंचने की जद्दोजेहद में लगे हैं
मरकर या जीकर जैसे भी


इन सवालों का जवाब कोई देगा?
कि क्यों सबका पेट भरने वाला
भूखा रह जाता है ?
और सबका घर जोड़ने वाला
अपना घर न जोड़ पाता है?
सारी विपत्ति उन्हीं के झोले में


अब कोरोना वाइरस के सामने 
वे निहत्थे खड़े हैं
न पैसा, न कौड़ी
न दाना , न पानी
असुरक्षा ही इनकी
चिरंतन कहानी


सब साथ छोड़ देते हैं
पर एक कोई है 
जो कभी साथ नहीं छोड़ती 
वह है उनकी  मजबूरी 
एक मास्क तक नहीं नाक पर
बचाव का कोई उपाय सुलभ न हो सका
तो अब अपनी मजबूरी का ही नक़ाब पहनकर
वे खड़े हैं कोरोना के सामने


और कह रहे हैं --
"क्या बिगाड़ लेगी तू मेरा?
तू आ गयी महामारी बनकर
मुँह पर ताला लगा दिया मिल मालिकों ने
घर में ताला लगा दिया मकान मालिकों ने
जान लेने के लिए खड़ी है 
बेरोज़गारी और भुखमरी
इन सभी से जूझ रहा हूँ एक साथ


तो एक तुझसे भी सही
तुझे दिखा रहा हूँ अँगूठा
मेरे साथ चलेगी क्या गाँव तक?
तुझसे ठन गयी है  मेरी लड़ाई
पर मैं ही जीतूँगा.....
जीतूँगा..... और जीतूँगा
तुझसे हार नहीं मानूँगा मैं
हराऊँगा तुझे
तेरे पास वह विष नहीं
जिससे तू  मुझे ख़तम कर सके
हम स्वयं "विषपायी हैं"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

चिन्तन

लघुकथा

गीत-नवगीत

कहानी

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं