अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ईश्वर की विडम्बना

"तूने मुझे पुकारा तो मैं तुरन्त दौड़ पड़ा। तेरी चीख इतनी दर्द भरी थी जैसे तुझ पर बड़ी विपत्ति आन पड़ी हो। मैं तेरी इस करुणामय पुकार से दहल गया था। आनन-फानन मैं तेरी तरफ दौड़ पड़ा।

"मेरे सिर का मुकुट गिरकर खाई तरफ लुढ़क गया। वायु को चीरते जैसे ही मैं बढ़ा तो मेरे कीमती आभूषण टूट-टूटकर गिरने लगे। मेरी रत्नजड़ित माला भी टूट गई और सारे रत्न ज़मीन पर बिखर गये।

"जब मैं हाँफता तेरी झोपड़ी के दरवाज़े पर पहुँचा तो देखा कि वह खुला था। भीतर जाकर देखा तो तेरी पत्नी व बच्चे सो रहे थे। मैंने झोपड़ी का हर कोना तलाशा। बाहर आकर देखा। पर तू कहीं नहीं दिखा।

"आस-पड़ोस से पूछा, पर कोई कुछ न बता सका। मैं हताश लौट पड़ा। वापस होते समय मैंने देखा कि तू मेरी माला के बिखरे रत्नों को बटोर रहा था। पास आने पर भी तूने मेरी तरफ नहीं देखा। तू तो अपनी धुन में रत्नों को बटोरता रहा।

"अरे पगले! अगर तेरी चीख सिर्फ इसलिये उठी थी कि तू मेरे कीमती आभूषण चाह रहा था, तो यह तू मुझे शान्ति से भी बता सकता था। मैं ये आभूषण स्वयं उतारकर तुझे दे देता। तब ये टूट हुए न होते और इनके रत्न भी तुझे बटोरने न पड़ते।"

ईश्वर को पास खड़ा देख वह थरथर काँपने लगा। उसके बटोरे हुए रत्न ज़मीन पर गिर पड़े और पहाड़ी मार्ग से लुढ़ककर नीचे खाई में चले गये। जैसे-तैसे ख़ुद को सँभालकर वह बोला, "हे प्रभु! वह एक निर्धन की पुकार थी। मुख से निकल पड़ी। मेरी पत्नी व बच्चे सो नहीं रहे। वे तो भूख से तड़पते मरणासन्न हो गये हैं।

"हे ईश्वर! मुझे पता नहीं था कि तू निर्धनों की इतनी चिन्ता करता है। मुझे यह भी नहीं मालूम था कि तू इतना दयावान है। वरना वह चीख न होती, मात्र एक छोटी-सी विनती होती।" इतना कह वह रोने लगा।

ईश्वर ने देखा कि उनके शरीर पर तब एक भी आभूषण नहीं था। अब भला, वे उस निर्धन को क्या दे पाते।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

बाल साहित्य कविता

बाल साहित्य कहानी

लघुकथा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं