अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जन्मभूमि

 पिछले कुछ महीनों से चंपकवन में बहुत अशान्ति फैली हुई थी। इसकी वज़ह यह थी कि कुछ दुष्ट जानवरों ने चंपकवन में घुसपैठ कर ली थी। ये जानवर जंगल की संपति और और छोटे-छोटे जानवरों के लिए एक खतरा बन चुके थे। चंपकवन का राजा शेरसिंह भी बूढ़ा हो चुका था लेकिन वह भी जंगल में फैलती जा रही अराजकता से चिंतित था। वह जब भी अपने मंत्री चमकू भेड़िये से इस बारे में पूछता तो वह तुरंत जवाब देता- "महाराज! राज्य की स्थिति बहुत अच्छी है। आप बेवज़ह परेशान हो रहे हैं। मुझे लगता है कि कोई आपकी छवि ख़राब करना चाहता है। यदि आपको विश्वास न हो तो अन्य कर्मचारियों से पूछ लीजिए।" शेरसिंह को उसकी बातों में सच्चाई नज़र नहीं आती थी लेकिन वह मजबूर था क्योंकि राज्य की सारी व्यवस्था चमकू भेड़िये के हाथों में थी। चमकू भेड़िया अपनी चालाकी से राजा शेरसिंह को अँधेरे में रख रहा था और उसने अपने चमचों को भी चेतावनी दे रखी थी कि राजा शेरसिंह को हमारे काम के बारे में बिल्कुल पता नहीं चलना चाहिए।

एक बार रात के समय चमकू भेड़िया अपने दो चमचों के साथ नदी की ओर जा रहा था, तभी अचानक झाड़ियों में छिपी मिनी लोमड़ी ने उसे देखा और उसका पीछा करने लगी। मिनी लोमड़ी पिछले कई दिनों से अपने मिशन में लगी हुई थी। दरअसल राजा शेरसिंह ने ही उसे चमकू भेड़िये की जासूसी करने को कहा था। उसने देखा कि चमकू नदी किनारे खड़ा हो गया, तभी वहाँ पाँच अजनबी जानवर आये। चमकू भेड़िये और उनके बीच कुछ बातचीत हुई। अब मिनी लोमड़ी को पक्का विश्वास हो गया कि चमकू ही इन घुसपैठिये जानवरों के साथ मिला हुआ है। वह जितनी जल्दी हो सके, यह बात राजा शेरसिंह को बताना चाहती थी। वह चुपचाप वहाँ से निकली और तेज़ी से चलने लगी। तभी उसे दूसरी तरफ से चीकू खरगोश आता दिखाई दिया। उसने कहा- "चीकू भाई, इतना हाँफ क्यों रहो हो?"

चीकू बोला- "क्या बताऊॅं मिनी बहन! उन दुष्टों ने फिर हम पर हमला कर दिया हैं। वे जंगल के छोटे जानवरों को अपना शिकार बना रहे हैं। अब तो मैंने फैसला कर लिया है कि अपने परिवार के साथ आज ही चंपकवन छोड़ दूँगा।"

मिनी लोमड़ी ने कहा- "नहीं चीकू भैया, तुम ऐसा क्यों कहते हो। चंपकवन हमारी जन्मभूमि है। अगर हम ही अपनी जन्मभूमि को संकट में छोड़कर भाग जाएँगे तो हमारी जन्मभूमि की रक्षा कौन करेगा? आज हमारा कर्तव्य है कि अपनी जन्मभूमि की रक्षा के लिए सबको तैयार करें। मुझे यह भी मालूम है कि चमकू भेड़िया और उसके चमचे ही इन घुसपैठियों के साथ मिले हुए हैं। अब देरी मत करो, चलो, पहले राजा शेरसिंह को यह बात बताएँ।"

चीकू बोला- "तुम बिल्कुल ठीक कहती हो, मैं तुम्हारे साथ हूँ।" वे दोनों राजा शेरसिंह के पास गए और चमकू भेड़िये का भेद खोल दिया। यह सुनकर राजा शेरसिंह को बहुत क्रोध आया। उसने सभी जानवरों को इकट्ठा किया। राजा शेरसिंह ने कहा- "आज हमारी जन्मभूमि चंपकवन में घुसपैठिये आतंक मचा रहे हैं और विश्वासघाती चमकू भेड़िया और उसके चमचे उनका साथ दे रहे हैं। हमें उन घुसपैठियों को ऐसा सबक सिखाना होगा कि वे भूलकर भी यहाँ कदम ना रखें।" सभी जानवरों ने राजा शेरसिंह की आज्ञा का पालन किया। वे शत्रुओं पर बुरी तरह टूट पड़े और उन्हें जंगल के बाहर खदेड़ दिया। चमकू भेड़िये और उसके चमचों को भी अपनी करनी का फल मिल गया। राजा शेरसिंह ने मिनी लोमड़ी की खूब प्रशंसा की। चंपकवन में एक बार फिर से शान्ति और खुशहाली वापस लौट आयी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आँगन की चिड़िया  
|

बाल कहानी (स्तर 3) "चीं चीं चीं चीं" …

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

बाल साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं