अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

काँटों से सेवित है मानवता का फूल यहाँ

माया के मोहक वन से बाहर निकलो
कैसे एक पल सुधा वृष्टि बीच
क्लांत मन जुड़ा पाये, उसकी सोचो
काँटों से सेवित है, मानवता का फूल यहाँ
जग की पगडंडी पर सँभलकर चलना सीखो

 

छोड़ो रोना देखकर, जगत की अनित्यता
बाहर देखो कैसे, जीवन पतझड़ में जन –
मन की डाली पर, प्रज्वलित भूमि का
ज्योतिवाह बन , नव मधु की ज्वाला से
पल्लव – पल्लव में शोणित भरने
नव प्रभात के नभ में उठ, धरती के आनन
में बिछ, सौ–सौ रंगों में मुस्कुरा रही सुंदरता

 

क्योंकि आज स्वर्गदूती, जगत जननी
माँ दुर्गा, जन मन को नव मानवता में
जागृत कराने, जीवन रण शंख फूँकती
धरा पर स्वयं उतर आई हैं
आज माता की नव रात्रि पूजन है, लोग धूप–
दीप जलाकर, माँ के चरणो में प्रणति जता रहे हैं
क्षितिज का उर वातायन खुला देख
मन के भीतर मन नहीं समा रहा, पर्ण–पर्ण पर
लहर – लहर में आनंद लहरा रहा, धरती
स्वर्ग बनी जा रही है, नाच रहा मन अनंता

 

धरती से अम्बर तक बिखरी हुई हैं खुशियाँ
ऐसे में तुम्हारे प्राणों को प्लावित कर
उमड़ रही है कैसी वेदना, जो तुम्हारा
अंग – अंग शिशिर पल्लव–सा कंपित है
तुम्हारे संतप्त हृदय की पथरा गई है चेतना
है वह कैसा सपना, जो जीवन प्यास लपेटे
तुम्हारे अलकों के भीतर,अश्रु बना घूम रहा
प्रति क्षण उर में भर रही पीड़ा और तृष्णा

 

जानती हो , सृष्टि की आनंद अम्बुनिधि
इतना सुंदर , स्वर्ग – फल सा क्यों है
क्योंकि यह निज शक्ति से तरंगित है
ज्यों वासी फूलों में सुगंध नहीं रहती
कर अतीत को याद, जीवन तृप्ति नहीं मिलती
मिलती केवल, दुख ,पीड़ा, नैराश्य, व्याकुलता
इसलिए अतीत को भूलो, वर्तमान की सोचो
देखो कमल के शत पत्रों को शीतल पान कराने
हिम पर्वत से उतरकर, कैसे बह रही शीतलता

 

देव शाषित यह लोक, देवों पर है आश्रित
यहाँ मनुज कर्म, देवों से होता पोषित
इसलिए चलो चलकर हम, उस चन्द्रानन
को देखकर अपनी आँखें ठंढ़ी करें
जिस पर तीनों लोक हैं गर्वित, कहते हैं
यही सृष्टि की मालिनी है, जो मनुज
के कोरी तकदीर की रेखाओं में रंग भरती
पूर्ण स्वर्ग बनी रहे यह धरती, कैसे –कब
उषाओं के पथ से उतरेगा, पूषण का रथ
दिन, मुहूर्त ,क्षण ; यही तो निश्चित करती

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं