अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कछुआ हारा, खरगोश जीता

प्यारे बच्चों! आज मैं तुम्हें कछुआ और खरगोश की एक नई कहानी सुनाता हूँ। इस कहानी में दौड़ में कछुआ नहीं बल्कि खरगोश ने मारी बाजी। वह कैसे? तो सुनो :-

नदी के किनारे के जंगल में एक कछुआ और एक खरगोश साथ-साथ रहते थे। वे साथ-साथ नदी में डुबकी लगाते और एक साथ बैठकर पढ़ाई भी करते।

एक दिन कछुए ने खरगोश से कहा, "तुम्हें याद है; एकबार मेरे दादा ने तुम्हारे दादा को दौड़ में हराया था?" खरगोश ने कहा, "ये भी कोई भूलनेवाली बात है, मित्र। ऐसी ही घटनाओं से हम जीवन में बहुत सारी अच्छी बातें सीख जाते हैं।" कछुए ने कहा, "क्या तुम मेरे साथ दौड़ लगाओगे?" खरगोश ने हामी भर दी।

दूसरे दिन नियत समय पर एक कौवे की देख-रेख में दौड़-प्रतियोगिता शुरु हुई। कछुआ अपनी धीमी गति से चला जबकि खरगोश तेज दौड़ा और तबतक दौड़ता रहा जबतक दौड़-प्रतियोगिता में निर्धारित मंजिल तक नहीं पहुँचा। कछुआ धीरे-धीरे पर लगातार चलता रहा और जब मंजिल पर पहुँचा तो क्या देखता है कि खरगोश तो मंजिल पर पहुँचकर आराम फरमा रहा है। कछुए ने कहा, "मित्र  खरगोश! इसबार तुम जीत गए लेकिन एक बात मेरी समझ में नहीं आई।" "कौन-सी बात मित्र", खरगोश ने पूछा। कछुए ने कहा, "तुम अपने दादा की तरह बीच में पेड़ की छाँव में आराम क्यों नहीं किया?" खरगोश हँसा और बोला, "मित्र! मेरे दादा हमेशा मुझसे कहते रहते हैं कि 'आराम हराम है'; गाँधीजी ने भी गाया है कि 'जो सोवत है सो खोवत है' और आज का युग भी पहले जैसा नहीं रहा। आज के युग में लक्ष्य-प्राप्ति के लिए तत्परता, निरंतरता के साथ ही साथ शीघ्रता भी अति आवश्यक है। इसलिए मैंने मंजिल पर पहुँचकर ही आराम करना उचित समझा।"

प्यारे बच्चों! क्या आप हमें बताओगे कि इस कहानी से आपने क्या सीखा?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

इमली
|

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

अनूदित लोक कथा

कविता

बाल साहित्य कविता

आप-बीती

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं