अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कदाचित

जब कली बागों मे खिलती जब पवन से सुरभि मिलती 
जब कहीं कोई खटक उठती जब कोई पदचाप मिलती
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो ।

झूमती जब डालियाँ हैं, चमकती जब बिजलियाँ हैं 
गीत जब कोकिल सुनाती सुप्त मन को जब जगाती 
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो ।

कोई आत्मा जब गीत गाती, मधुर स्वर लहरी सुहाती
आ मेरे अन्तर समाती तेरे प्यार की पहली प्रभाती
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो 

जब घटा घनघोर छाती प्यास धरती की बुझाती
जब कि प्रस्तर में खिले गुल जब दुखित खुशियाँ मनाती 
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो 

जब मरूस्थल में दृवित जल जब पखेरू करें हल चल
जब हृदय हो जाय विह्वल जब आत्मा में खिलें शत दल 
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो

जब कहीं कोई भृंग गाता सुकुमार कलियों को खिलाता 
जब पवन मन झूम उठता मेघ जब तृष्णा मिटाता 
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो 

जब दिशायें बोलती हैं प्यार हिय में घोलती हैं 
जब लतायें महकती है जब मयूरी नाचती औ हवायें झूमती हैं 
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो 

जब करे कोई प्रेम पूजा ईष्ट इक है कोई न दूजा 
जब कहीं कोई गुन गुनाता भाव निज हिय के सुनाता
तब यही आभास होता तुम वहीं पर हो कदाचित तुम वहीं पर हो

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं