अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कर्मण्येवाधिकारस्ते

उस सुबह उसने फ़ेसबुक पर निगाह डाली तो उसे एक फ़्रेंड रिक्वेस्ट नज़र आई। उसने क्लिक किया तो उसे फ़्रेंड रिक्वेस्ट भेजने वाली उस युवती का चेहरा भा गया। उसने तत्काल कंफ़र्म करते हुए उसके मैसेज बॉक्स में लिखा- "भगवान ने तुम्हें बला का ख़ूबसूरत बनाया है। मैंने पहली बार फ़ेसबुक पर इतना ख़सूरत चेहरा देखा है।" अगले तीन दिन तक उसने दिन में कई बार अपना फ़ेसबुक अकाउंट खोला लेकिन उसे क्रेडिट में कुछ भी नया नज़र नहीं आया। ख़ैर, चौथे दिन उस ख़ूबसूरत युवती का जवाब आया- "हार्दिक धन्यवाद!" उसे महसूस हुआ कि शुरूआत हो चुकी है अब वह खेल को आगे बढ़ाएगा। उसने प्रत्युत्तर में लिखा- "मेरा दिल दिल की भाषा को बख़ूबी समझता है। अपना ख़्याल रखना; ख़ूबसूरती का मैं हमेशा से कायल रहा हूँ।" दो दिन बाद उधर से जवाब आया, "भैय्या, मुझे पता था कि मेरा कोई अपना सगा भाई नहीं है लेकिन एक न एक दिन मुझे आप जैसा एक नेक भाई ज़रूर मिलेगा।" जवाब पढ़कर उसने मुँह बिचकाते हुए तत्काल ही उस युवती को अनफ़्रेंड कर दिया। फिर वह ख़ुद को तसल्ली देते हुए फ़ेसबुक पर किसी दूसरी ख़ूबसूरत युवती को तलाशने लगा। वह फ़ेसबुक का एक अनुभवी खिलाड़ी है और "कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन" में यक़ीन करता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं