अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कौन हो तुम

हे मौन साधक कौन हो तुम व्योम में जो लीन । 
कल्पना से भी परे हो इतने हो असीम ।।
झंझा आये तड़ित चमके तुम अडिग रहते सदा
पर सभी के प्रेम में रहते हो तल्लीन ।।

मन सदा सोचता कौन हो तुम कौन हो ।
तन वंशी बाजती जैसे बिन स्वर बोली हो बीन ।।
हिय गाता है गीत तुम्हारा हर बन्धन को भूल ।
सत्य कहूँ तो सबको लगता जैसे कड़वा हो नीम ।।

मादक मन मन मन्थन करता हर पल खोजे स्त्रोत ।
कहाँ आदि है कहाँ अन्त तुम कितने हो प्राचीन ।।
सोच सोच कर रह जाता हूँ एक पल मिले न चैन ।
कैसे खोजूँ इस रहस्य को कोई तो इतना हो प्रवीन ।।

मन ही गाता मन ही सुनता गीतों की धुन ।
पंच तत्व का पुतला कहता तुम स्वर तुम हो बीन ।
मेरी काया तेरी छाया का ही एक प्रतिफल है ।
तड़प रहा मन ओ निर्मोही क्यूँ न सके हो चीन्ह ।

जीवन जगत रचाने वाले सबको हृदय लगाने वाले ।
कहलाते हो दीन बन्धु क्यों मुझको करते हो दीन ।
कितने ही ब्रह्मांड रचाये कितने शशि और सूर्य बनाये ।
क्यों मानव को पीड़ा देकर सुख उसका लेते हो छीन ।।

शरणागत की जिज्ञासा खोज रही इसका निदान कुछ।
पता नही इस योग्य भी हूँ पर मुझको न कहो प्रवीन ।
मेरे इस चँचल मन को प्रभु शान्ति भाव दे देना
ज्ञान मिले उसको बाँटूँ जिससे विमुख न कोई हो दीन ।।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं