अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कविनिकेतन

जहाँ विचारों की विविधता और
कल्पनाओं का सम्मान है।
जहाँ भाषाओं का सम्मेलन और
शब्दों का आवाम है॥
जहाँ सोने के सिक्कों से ज़्यादा
अल्फ़ाज़ों का दाम है।
कवियों के मन में वो बसता
कवियों का एक धाम है॥


हर सदी के क़लमकार का
जहाँ होता साक्षात्कार है।
जहाँ मीरा का प्रशासन है और
कबीरा की सरकार है॥
जहाँ दिनकर के व्यंग्यों से लगता
हर ज़ुबां पे ताला है।
जीवन का यथार्थ बताती
मृदुभाव मधुशाला है॥


जहाँ वर्ड्सवर्थ के वर्णन से 
कुदरत भी शर्मा जाती है।
जहाँ हरिओम की अग्नि
हर मन में ज्वाला भड़काती है॥
जहाँ भवानी के भावों से
सब मंगल हो जाता है।
बंजर मन भी सतपुड़ा का
घना जंगल हो जाता है॥


जहाँ निराला की रचनाएँ
हृदय पर कब्ज़ा करती हैं।
मेघ बन-ठन जाते हैं और 
बारिश भी बातें करती हैं।
विश्वास के शृंगार रस से
मन में प्यार बहता है
बशीर बद्र के बंधों का 
हर दिल पर जादू रहता है॥


ग़ालिब की रूहानियत जहाँ के
रोम रोम में छाई है।
माखन की क़लम के आगे
तलवारें धराशाई है॥
गुलज़ार गली के शेरों से
गूँजे गली-गलियारे हैं।
साहित्य रूपी रत्नाकर में 
डूब चुके यहाँ सारे हैं॥


जहाँ अल्हड़ बीकानेरी की
अल्हड़ता सब पर भारी है।
अनुभवों से सिंचित होती
अनुभूति की क्यारी है॥
काल्पनिक सी उस जगह का 
कविनिकेतन नाम है।
कवियों के मन वो बसता
कवियों का एक धाम है॥


जहाँ गीता से पहले होते
गीतांजलि के दर्शन हैं।
तुकबंदी ज़र्रे ज़र्रे में
कविता कण कण में हैं॥
शब्दों की शमशीर तानने का
मैं भी अभिलाषी हूँ।
उस कविनिकेतन के कमरों का
मैं भी एक निवासी हूँ॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं