अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खंडहर हो चुके अपने अतीत के पिछवाड़े से

खंडहर हो चुके अपने अतीत के पिछवाड़े से,
श्मशान से अधजली लाशों के रोने की आवाज़ आती है,
मेरा मन उनकी करुण पुकार को,
शब्दों की मीठी चासनी में लपेट,
भावनाओं की मर्यादा को ताड़-ताड़ कर,
नये काव्य का सृजन करने लगता है,
कुछ अल्फ़ाज़ मेरी लेखनी की राह रोक,
मुझे लोकतंत्र का मतलब समझाने का प्रयास करते हैं,
मगर मैं उन्हें नवभाषावाद से अवगत करा,
उनका समर्थन लेता रहता हूँ।

 

कभी मेरा मन शब्दमाला में,
अल्फ़ाज़ों के सुनहरे मोती पीरो,
अतीत की उन महान आत्माओं को,
श्रद्धासुमन अर्पित करना चाहता है,
जिन्होंने अपने शब्दों को,
बिना किसी खड्ग या हथियार के,
अपने नियंत्रण में रख,
अपनी भावनाओं को निज लहू का छांक1 दे,
जन्म-जन्मांतर तक अक्षुण्ण रखा,
ताकि हम जैसे शब्दों के खिलाड़ी,
उनके वारिस होने का दावा कर,
उनकी गाढ़ी कमाई का पाई-पाई,
छद्म समाजवाद की थोथी दलील,
खरीद सकें और,
अर्जित कर सकें,
चौराहों पर बिकने वाले,
चमचागिरी के स्वर्ण तमगे।

छांक शब्द आँचलिक शब्द है। इसका अर्थ होता है-देवताओं को अर्पित किया जाने वाला बलि किये गये जानवरों के रक्त। दरअसल यह शब्द बिहार और उत्तरप्रदेश के पूर्वी जिलों मे बहुत लोकप्रिय है और इस कविता में मुझे सबसे बेहतर लगा - नवल किशोर कुमार


अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

ललित निबन्ध

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं