अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खिड़की

मैं डर गया क्योंकि मुझे लगा कि मुझसे पूछा जायेगा कि क्लास के टाइम में मैं फ़ील्ड में क्या कर रहा हूँ?
"मेरे सामने वाली खिड़की में इक चाँद का टुकड़ा रहता है"  ये गाना आपने ज़रूर सुना होगा, पर मैं यहाँ इस खिड़की का ज़िक्र नहीं करूँगा।

बात कई साल पुरानी है जब मैं छोटा बच्चा था। आज हम जानते है कि दाँत दो तरह के होते है एक स्थायी दूसरा अस्थायी; पर बचपन में कहाँ पता था। हुआ यूँ कि मेरा सामने का एक दाँत हिल रहा था; बहुत कोशिश की गयी कि टूट जाये पर टूटता नहीं था।

स्कूल जाता था, क्लास में था। शिक्षक महोदय ने मुझे बोर्ड पर जाकर हिंदी में कोई शब्द लिखने को कहा था। मैं लिख ही रहा था कि लगा कि जीभ के धक्के से दाँत टूट गया। मैंने झट से टीचर से कहा, "मे आई गो आउट सर?"(क्या मैं बाहर जा सकता हूँ?) 
मेरे सहपाठी सोच में थे कि इसे क्या हुआ?
मैं दौड़ के स्कूल के फ़ील्ड में गया और दाँत को घास के नीचे दबाने लगा। ऐसा करते मुझे एक शिक्षक ने देख लिया और मुझे ऑफ़िस में बुलाया। मैं डर गया क्योंकि मुझे लगा कि मुझसे पूछा जायेगा कि क्लास के टाइम में मैं फ़ील्ड में क्या कर रहा हूँ? मैं ऑफ़िस में गया । 

वहाँ कई टीचर्स थे। मैंने जाते ही कहना शुरू किया कि "मेरी दाँत टूट गया था और पंछी न देख ले इसी लिए जल्दी से घास के नीचे उसे दबा रहा था"।

एक टीचर ने मुझसे पूछा कि ऐसा क्यूँ? 
मैंने कहा, "सर चिड़िया टूटे दाँत को देख ले तो फिर दाँत नहीं निकलता ना!"   
टीचर्स हँसने लगे। हुआ यूँ था कि मेरे एक दोस्त ने मुझे ये  थ्योरी समझाई थी।

मैं लंच ब्रेक में जब स्कूल फ़ील्ड में खेल रहा था तो मेरे साथी मुझे कहने लगे कि इसके मुँह में भी खिड़की बन गयी। उनमें से तो कइयों के दो-दो खिड़कियाँ थीं। हम सब एक दूसरे को देख हँस रहे थे। आपके साथ भी हुआ होगा ऐसा... है न!  
कुछ दिनों के बाद मेरा दाँत निकल आया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

उत्तर भारत का जाड़ा
|

यूँ तो यह कविता 2011 में लिखी थी परंतु 2014…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

बाल साहित्य कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं