अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

किसे कहूँ मैं युग-परिवर्तन

 जीवन का अस्तित्व सुरक्षित है जिनके ही कारण
जिनके सत्प्रयास से होता सामाजिक आवर्तन
वही उपेक्षित हैं समाज में, क्या यह न्यायोचित है
क्या उत्थान यही है? किसे कहूँ मैं युग परिवर्तन?

श्रुति, स्मृति करते हैं जिनका नमन वही सर्वज्ञा
सुर, नर, मुनि सबने है दिया जिन्हें सुनीति पद प्रज्ञा
कार्य सृष्टि संचालन का जिसने सहर्ष स्वीकार किया है
आज उन्हें क्या मिला सिवाय उपेक्षा अधिकृत वर्जन

क्या पुरुष वर्ग का दंभ और अहं साथ नहीं छोड़ेगा
क्या वह अपने पौरुष बल का अभिमान नहीं तोड़ेगा
उसका अन्तः सुविचारित हो क्या यह बन चुका असंभव
क्या इस विधि हो सकता समाज का प्रगति सहित संवर्धन

सृजन कार्य की प्रगति हेतु जिनका प्रयास है श्लाघ्य
है उचित सभी के अर्थ यही समझें उनको आराध्य
समता का दें अधिकार प्रगति पथ यदि प्रशस्त करना है
गर यह न कर सके तो किस भाँति करेंगे उनका अर्चन

अनाचार के नाश हेतु जो पति संग हुई वनवासी
उस सिय सम स्त्री को न समझ अपने चरणों की दासी
जिसने उत्प्रेरित किया पांडवों को स्वराज्य विजयार्थ
वह त्याग द्रौपदी का है अतुलनीय और संतर्पण

जो मानव धन की प्राप्ति हेतु पूजित करता लक्ष्मी को
वह क्यों अपमानित करता है देवी सम गृहलक्ष्मी को
है बिन सरस्वती कृपा असंभव जीवन का निर्वाह
और उमारहित है अर्धप्रभावी शिव का तांडव-नर्तन

अतः करो हे देव ! सदा ही नारी का सम्मान
हर नारी प्रतिमूर्ति है माँ की रखो प्रथम यह ध्यान
करो नहीं संज्ञायित उनको ‘अबला’ इति शब्दों से
दो स्वतन्त्रता फिर देखो उनका आत्म-अवलंबन

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

नवगीत

ग़ज़ल

कविता

अनूदित कविता

नज़्म

बाल साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं