अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कृष्ण अर्जुन

बन के अर्जुन तुम्हें अब लड़ना ही होगा,
सौ खड़े हों अपने तेरे
उठाकर ब्रह्मास्त्र सबका
विनाश करना ही होगा।
जो दिखते हैं न नक़ाब ओढ़े हुए अपने
वो युगों से तेरा तिरस्कार करते आए हैं।
उठकर तुम्हें अब उनकी
व्यंग्य भरी हँसी का जवाब देना ही होगा।
मत ढूँढ़ना किसी में भगवान कृष्ण को
ये कलयुग है यहाँ कर्ण जैसा
मित्र भी नहीं मिलेगा जो सत्य जानकर भी
अपनी मित्रता के लिए असत्य का साथ निभाए।
तुमको स्वयं में भगवान कृष्ण को जगाना होगा
और स्वयं ही ज्ञान उपदेश लेकर
अपनों से लड़ना होगा।
तुम मत सोचना पाप और पुण्य के बारे में
यह धर्म क्षेत्र है धर्म के लिए जो लड़ता है
वो कभी भी अधर्मी पापी नहीं  कहलाता।
तुम बस इतना याद रखना तुम उस जग जननी
महामाया माँ महाकाली के सपूत हो
तुम्हें धर्म के लिए लड़ना ही होगा
भले धर्म के रास्ते में आने वाला कोई भी हो
तुम्हें सिर काट कर उनका
रणचंडी को चढ़ाना ही होगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं