अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कृतघ्नता

"सुकून चाहिए तो कमज़ोर इंसानों की मदद करें। यह बहुत सरल तरीक़ा है।" सुबोध जी ने यह सूत्र बचपन में किसी पुस्तक में पढ़ा था। उनकी जवानी और प्रौढ़ावस्था के दिन तो आपाधापी में बीतते रहे पर इधर जीवन के उत्तरार्द्ध में उन्हें इस सूत्र ने सुकून पाने के लिए उकसाना शुरू किया। वजह भी थी। उनकी बेटी विवाह के बाद अपने पति के साथ ऑस्ट्रेलिया चली गई और बेटा उच्च शिक्षा करने के बाद अमेरिका चला गया। ख़ैर, शुरू में तो वे गाहे-बगाहे आसपास रहने वाले कमज़ोर लोगों की मदद करते रहे। लेकिन कुछ वर्ष बाद वे कहीं सड़क के किनारे पेड़ के नीचे सोये एक कृशकाय युवा को रिक्शे में लादकर अपने घर ले आए। उस युवक तरसेम ने उन्हें बताया कि उसका इस दुनिया में कोई नहीं है और उसने ग़रीबी से तंग आकर आत्महत्या की कोशिश भी की। 

बहरहाल, उन्होंने उस युवक को कार चलाना सिखाया और फिर उसका लाइसेंस भी बनवा दिया। कुछ महीनों बाद वह युवक किसी 'टूर और ट्रैवल कंपनी ' में नौकरी पर लग गया। ख़ैर, उसका उनके घर आना-जाना जारी रहा। इस दौरान एक दिन के लिए सुबोध जी किसी काम से कहीं बाहर गए और जब लौटकर आए तो उन्हें घर के किचन में अपनी वृद्धा पत्नी का शव मिला। पुलिस जाँच में पता चला कि उनकी हत्या लूटपाट के इरादे से की गई थी। हत्यारा घर से गहने और नक़दी ले गया था। ताज्जुब की बात यह थी कि हत्यारा कोई और नहीं, वही तरसेम था जिसकी उन्होंने मदद की थी। बचपन में पढ़े उस सूत्र से उन्हें सुकून तो नहीं मिला, उनका जीवन सूना ज़रूर हो गया।    

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं