अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कृतज्ञता

यह संस्मरण मुझे अनायास ही मिलने वाले एक व्यक्ति के सद्व्यवहार से प्रेरित कर अतीत में खोकर सुखद यादों से मेरे मन को सुखमय करता रहा है। और समय-समय पर मुझे उस घटना की याद दिलाता है जब हम दोनों नवविवाहित जोड़ा बने रेलगाड़ी से बम्बई जा रहे थे। सफ़र लंबा था। बार-बार अपनी सीट पर लेटना चाहती थी परन्तु इतनी जगह नहीं थी कि मैं अपने पैर फैला सकूँ। जब रहा नहीं गया तो धीरे से अधलेटी होने का प्रयास किया। पास में बैठे यात्री ने अपने आप को सिकोड़ा ओर मुझे थोड़ी जगह मिली कि मैं अधलेटी हो बर्थ पर लेट गई। अपनी कमर को थोड़ा सा आराम दे रही थी, अचानक एक स्टेशन आ गया और गाड़ी रुक गई। स्टेशन की चहल-पहल और चाय कॉफ़ी की आवाज़ों ने तथा नए यात्रियों के सामान की उठा-पटक ने मुझे उठने पर मजबूर कर दिया। मैं अपनी बर्थ पर बैठी बाहर स्टेशन पर लगी घड़ी की ओर देख रही थी कि एक व्यक्ति हाथ में छोटा सा सूटकेस लिए हमारे सामने वाली सीट पर आकर बैठ गया।

मेरे पति ने उससे बात करना शुरू कर दिया तो पता लगा कि वह भी बम्बई ही जा रहा था। मन को थोड़ी राहत मिली कि चलो कोई और भी है जो बम्बई उतरेगा। डर था कि कहीं हम सोते न रह जाएँ और स्टेशन निकल जाए। गाड़ी सुबह के चार बजे पहुँचनी थी। धीरे-धीरे समय निकलता गया और सुबह के चार बजे गाड़ी बम्बई पहुँच गई। स्टेशन के आते ही अनेक आवाज़ें आने लगीं, हम भी दोनों उठकर अपना सामान समेटने लगे और गाड़ी से नीचे उतर गए। स्टेशन के बाहर जाकर जैसे ही हमने टैक्सी बुलाई, ट्रेन में हमारे सामने वाली सीट पर बैठे व्यक्ति मेरा पर्स हाथ में लिए हुए भागते आ रहे थे। हमें समझते देर न लगी कि मैं अपना पर्स सीट पर ही छोड़ आई थी, मुझे अपनी गलती का अहसास हुआ। वे सज्जन बोले कि सामान उठाते समय आप अपना पर्स मेरी सीट पर रखा छोड़ आयीं थी।

मेरे पर्स में कीमती चीज़ों के साथ ही हमारे घर की चाबियाँ भी थीं। समझ में नहीं आया कि किन शब्दों में उनका धन्यवाद करूँ। पति ने उन्हें कुछ रुपए देने चाहे परन्तु उनके चेहरे की शालीनता और सज्जनता को देखकर हिम्मत नहीं हुई कि उन्हें कुछ रुपए दें। आज भी वह घटना याद आती है तो मन उस व्यक्ति के प्रति कृतज्ञता से भर उठता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

28 अक्टूबर, 2015 की वो रात
|

बात २४ जनवरी २०१३ की है। उस दिन मेरा ७५वां…

 काश! हम कुछ सीख पायें
|

अभी कुछ दिनो पूर्व कोटा से निज़ामुद्दिन जनशताब्दी…

अभी नहीं 2 - चाय का दूध बहुत महँगा पड़ा : 1961
|

जीवन की कुछ घटनाएँ ऐसी होती हैं जो अपनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

स्मृति लेख

दोहे

बाल साहित्य कहानी

आप-बीती

कहानी

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं