अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क्या करूँ मैं ऐसी ये दुनिया

क्या करूँ मैं ऐसी ये दुनिया
जला क्यों न दूँ मैं ऐसा संसार

 

लाशें बन कर जी रहें रास्तों के वृक्ष
हस्ती मिटा दी जाती है ज़रा सा बोलने पर
इन्सान को खिलौना समझ रखा है
इन ज़ालिम दरिंदों ने
जब दिल चाहे फोड़ देते हैं खेलने के बाद
अपनी ही गली के लोग


मौत कितनी सस्ती सी हो गई है 
इस नगर में
जिस्मों की मंडी लगती है
दिन दोपहरों का बलात्कार कर रहे हैं
बदकारी भटक रही है मुहल्लों में


किस काम है
ये रंग-ए-आलम
यह ताज तख़्त आसमान को छूते महल
जंगल जला रहा है 
समाज को ताक रहीं हैं 
मानवी नफ़रत की निगाहें
मर रहा है दौलत पे दुश्मन समय का दौर


ख़ून के प्यासे हैं रिवाज़ और रूहें
संसार है कि जिसे जिस्मों की भूख लगी है
क्या उम्मीदें पाओगे ऐसे बलात्कारी जहान से 


सीने जख़्मों से भरे पड़े हैं
आवाज़ ऊँची करो तो
ज़ुबानें काट दी जातीं हैं 
बेइज़्ज़त किये गए जिस्म घायल पड़े हैं 
बेपहचान हैं लाशें 
टुकड़ा टुकड़ा हुई बिन कफ़न
 

सूर्य उदास सा है हर सुबह का
तड़पन सी लगी है दोपहर को धूप की
उलझन में है हर शाम की आँख


पूछना पड़ता है दरिया को बहने के लिए
हवाओं को चलना है तो अनुमति चाहिए
कैसी बदहवासी है शहरों में
व्यापार सी बन गई है मोहब्बत यहाँ

 

क्या करूँ ऐसी दुनिया को
जला क्यों न दूँ ऐसे संसार को

 

आप को मुबारक आपकी ये दुनिया
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं