अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लड़कपन 

मैं और मेरी पत्नी सीमा हमारी बेटी आर्या को दाख़िला दिलवाने के लिए हमारी कॉलोनी के नज़दीक के स्कूल में गए थे। विद्यालय हमारी कॉलोनी से लगभग एक किलोमीटर दूर है। दाख़िला दिलवाने के बाद हम तीनों पैदल ही घर की तरफ़ आ रहे थे। हम कुछ दूर ही चले थे की अचानक बारिश शुरू हो गई। हम दौड़कर एक दूकान के आगे बने टीन शेड के नीचे आकर खड़े हो गए। सीमा ने कहा, "लो! अब बारिश को भी अभी आना था। कुछ देर और रुक जाती तो क्या बिगड़ जाता इसका?"

"ओह! तो तुम क्या चाहती हो की इन्द्रदेव भी मेरी तरह तुम्हारे हर हुक्म को माने?" मैंने सीमा से मज़ाक करते हुए कहा।

"मेरे कहने का मतलब ये बिल्कुल नहीं था। अब मजबूरी में हमें थोड़ी सी दूर के लिए टैक्सी लेनी पड़ेगी और आप तो जानते ही हो ये टैक्सी वाले भी मौक़े का फ़ायदा उठाते हैं।"

सीमा मुझसे बहस कर रही थी की अचानक आर्या ने मुझसे अपना हाथ छुड़ाया और सड़क पर बह रहे पानी में धम से जाकर कूद पड़ी व अठखेलियाँ करने लगी। उसके चेहरे पर एक अजब की मुस्कुराहट थी। सीमा ने डाँटते हुए उससे कहा, "ये क्या किया आर्या तुमने? तुम्हारी स्कूल ड्रेस ख़राब हो गई बेटा।"

मैंने सीमा को पीछे से धक्का देते हुए कहा, "लो, जनाब आपकी भी साड़ी ख़राब हो गई।"

सीमा और मुझे पहले तो बारिश की बूँदे सता रहीं थीं। लेकिन बाद में हम तीनों की बारिश के साथ ऐसी जुगलबंदी हो गई कि हम तीनो हँसते - मुस्कुराते घर की तरफ़ बढ़ने लगे। सावन की बारिश की बूँदों ने हमें ऐसा नहलाया कि फ़ालतू की जो परम्परा हमने बना रखी थी कि "बारिश में भीगने से कपड़े ख़राब हो जाते हैं।" वो धुल गई।

घर पहुँचने के बाद हम तीनों ने कपड़े बदले। मैंने सीमा की तरफ़ देखा तो पता चला आज फिर 8 साल बाद मेरे सामने वही कॉलेज की लड़की है, जो बारिश में भीगने के लिए मौक़ा ढूँढ़ती थी। लेकिल समय के चक्र ने हमें बड़ा बना दिया था। मैंने मन ही मन आर्या को हमारा लड़कपन जगाने के लिए धन्यवाद किया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

सांस्कृतिक कथा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं