अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लगन

दीप इसलिऐ  जला कि कालिमा  पिघल सके।
साँझ इसलिऐ हुई कि   प्रात: काल मिल सके॥
अश्रु इसलिऐ बहे कि मन को शान्ति मिल सके।
साँस इसलिऐ मिली कि ज़िंदगी भी चल सके ॥ 


सोचता ही रह गया कि कल करूँगा और कुछ।
मुड़ के पीछे देखा तो ये पग न और चल सके॥
राह पर थे पग बढ़े कि जीत लूँगा मैं  समर।
भाग्य दे गया दग़ा  बात  सब विफल  करे॥ 


मैं चला जिधर जिधर सब राह हो गईं  जटिल।
दर्द  हिय लगा लिया कि  आत्मा  संभल  सके। 
एक ओर  मेरू था तो  इस तरफ लगन भी थी।
चढ़ गया  हर शिखर पग न फिर फिसल सके॥ 


जन्म और कर्म के तो दोनों  भिन्न  अर्थ  हैं।
जन्म निम्न हो तो उच्च कर्म ही  बदल  सके॥
बात बहुत ही  सरल  ध्यान दें  अगर  ज़रा।
कर्म और तप से ही अपशकुन  हैं टल सके॥


एक ओर शिष्ट का  अजब  सा एक समाज  था।
और दूसरी तरफ विशिष्ठ कुछ न  कर  सके॥
हो रहा था अति दमन जल गये  चमन  चमन।
वादियाँ सिसक उठी हैं फिर न फूल फल सके॥ 


रो रहा था हर चमन लुट गया  जहाँ अमन ।
बेटियाँ हैं रो रहीं माँ  बाप  कैसे  मिल  सकें॥
खेल ऐसा खेल के  तुझको  क्या मिला  बता ।
भाग्य  तेरा  है बुरा ये  लिखा  न  टल सके॥ 


एक ही तो है हवा   जिला रही  तुम्हें  हमें।
एक ही पानी को पीके  ये कदम  हैं चल रहे॥
एक ही तो शक्ति है   बना रही  तुम्हें  हमें।
एक ही तो है गगन हम जिसके नीचे पल रहे॥ 


बादलों में देख  लो    पवर्तों   पे  देख लो।
उसकी छवि है हर कहीं देख लो हरपल अरे॥
धर्म जाति भूल के  हर भेद   भाव  छोड़ के।
हम मनुष्य ही रहें  आज भी और कल सखे। 


मैं न कोई   पीर हूँ न   ही कोई   औलिया।
मैं न कोई सिद्ध हूँ  जो भाग्य को बदल सके॥
मैं कुछ तुच्छ सी ही पंक्तियाँ   लो लिख सका।
पर मेरा  विश्वास है ध्यान  दोगे  कल सखे॥ 


मेरी भक्ति भाव में तो तुम रमे हो  प्रिय प्रभु।
मेरी हर पुकार मे तो प्रेम ही प्रति पल रहे॥
मै पुकारता रहूँगा  बस तुम्हारे  नाम  को।
आस मे विश्वास में न कोई मुझको  छल सके॥ 


प्रिय कहूँ कि या सखा सोचता यही  हूँ  बस।
ऐसे दीन बन्धु को सब कहें निज बल सखे॥
जो सभी का मीत है प्रेम का  जो  गीत  है।
ऐसे प्रभु उदार को हम कहें  निर्मल  सखे॥ 


लाज राखिओ  मेरी  दीन बन्धु  दीन के।
क्षम्मियों त्रुटियाँ मेरी प्रीत बस अटल रहे॥
दास जान के मुझे  दरस   दीजिओ  प्रभु।
शरण लाय के मुझे न कीजियो  बेकल अरे॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं