अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लौहपथगामिनी का आत्ममंथन 

जेम्सवाट को सूझी शरारत,
अभ्युदय हुआ मैं हुई सार्थक
कोयले से प्रारंभिक सफ़र,
समानांतर अनंत डगर
विस्तार का मक़सद नहीं था, 
उपनिवेश का मक़सद नहीं था 
पूछता गर मैं सुखी हूँ, 
नहीं, क्योंकि मैं दुखी हूँ,
मैं हूँ लौहपथगामिनी॥

बीजअंकुरित पक्षपात से,
विभाजन साधारण, शयनयान से।
काला गोरा दुर्भायपूर्ण दास्ताँ, 
क्रूरता भरा अक्षम्य रास्ता 
गोरों की सुविधा सदा आँख पर,
औरों की सदा जाँच पर
पूछता गर मैं सुखी हूँ, 
नहीं, क्योंकि मैं दुखी हूँ,
मैं हूँ लौहपथगामिनी॥

अहिंसा का देवता दुःख से कराहाया,
उन्मूलन हो इसका, आंदोलन चलाया 
उत्पीड़न मार्मिक व्यथा है बताया,
उन्मूलन हो इसका, आंदोलन चलाया 
जनजातियों को पिछड़ा तुमने बताया, 
रक्षक का ढोंग है तुमने रचाया 
पूछता गर मैं सुखी हूँ, 
नहीं, क्योंकि मैं दुखी हूँ,
मैं हूँ लौहपथगामिनी॥

यहाँ का युवा था सदा शक्तिशाली,
नीयति को चुनौती सदा शक्तिशाली
क्रांतिकारियों से रहता हमेशा लगाव,
दिल को तसल्ली गोरों का घेराव 
वीरों के पराक्रम की हूँ मैं मुरीद,
मानवीय मूल्यों के हुंकार की हूँ चश्मदीद ।
पूछता गर मैं सुखी हूँ, 
नहीं, क्योंकि मैं दुखी हूँ,
मैं हूँ लौहपथगामिनी॥

भारत जैसा न कोई देश मैंने देखा,
अहिंसा के देवता का भेष मैंने देखा 
वसुधैव कुटुम्बकं परिवेश मैंने देखा,
मानव मुस्कराते परिवेश मैंने देखा 
एकता सूत्र में मैंने सबको पिरोया, 
तिरंगा मेरी जान सबको सिखाया 
पूछता गर मैं सुखी हूँ, 
नहीं, क्योंकि मैं दुखी हूँ,
मैं हूँ लौहपथगामिनी॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

Anugrah singh 2019/06/15 07:45 PM

वसुधैव कुटुम्बकं परिवेश मैंने देखा, मानव मुस्कराते परिवेश मैंने देखा आपके विचारो की ये अद्भत श्रृंखला ही आपके आदर्शो को बताती है.... आपकी यह रचनात्मक साहित्य बहुत पसंद आती हैं। I always wish that you move ahead with more such beautiful creation bhaiya.

Suyash Dubey 2019/03/03 09:44 AM

Well written.. Best Wishes

Shiv prasad 2019/03/02 04:21 PM

शानदार। गहन भावों और विचारों की कविता। वैसे ये मूलतः विचार प्रधान कविता है लेकिन इसमें कवि ह्रदय की भावुकता भी अपनी छाप छोड़े हुए है।

Supriya ramugade 2019/03/02 09:18 AM

Nice lines

Sunil Rana 2019/03/02 01:59 AM

Lauhpathgamini is always close to my heart, thanks for such an elaborate and beautiful picturization of its journey.

Dr.Rashmi 2019/03/01 06:08 PM

Yeah nice poem along with patriotic touch.All the best dear friend.

Atharwa Thigale 2019/03/01 05:19 PM

बहुत ही अच्छी कविता! शानदार.. जबरदस्त.. जिंदाबाद..

Raghuvansh Singh 2019/03/01 04:25 AM

Great job bhaiya...

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

नज़्म

लघुकथा

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं