अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लोकतंत्र का अर्थ

किशोर को थानेदार ने तीखी आवाज़ में पूछा, "रामसेवक जी कह रहे थे कि तू मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ बोल रहा था। उन्हें गालियाँ दे रहा था।" 

किशोर अभी उस थप्पड़ को नहीं भूला था जो थानेदार ने उसे थाने में पहुँचते ही मारा था। वह घिघियाते हुए बोला, "रामसेवक भी हमारे नेता जी के ख़िलाफ़ बोल रहा था। सर, गाली तो मैंने कोई ना दी। इतना ज़रूर कहा था कि मुख्यमंत्री ने अभी तक एक भी वादा पूरा नहीं किया।" 

"साले, तू करेगा मुख्यमंत्री साहब का ऑडिट। तूने सुना नहीं; वे अब इस प्रदेश में गुंडई का ख़ात्मा करके रहेंगे।" 

न जाने किशोर को क्या सूझी, वह धीमी आवाज़ में बोला, "सर, लोकतंत्र में सरकार के ख़िलाफ़ बोलना तो जनता का बुनियादी हक़ है।" 

किशोर की इस बात को सुनकर थानेदार दाँत पीसते हुए कुछ दूर खड़े सिपाही से बोला, "सुमेर, इसे अंदर ले जा और लोकतंत्र का अर्थ समझा देना।"

कुछ ही देर में अंदर से आती आवाज़ें बता रही थीं कि सुमेर ने किशोर को लोकतंत्र का अर्थ समझाना शुरू कर दिया था।   

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं