अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माँ (अनुपमा रस्तोगी)

माँ, मैं माँ बनकर तुम्हें समझ पाई
तुम्हारे मन को बेहतर से पढ़ पाई।
 
बाहर जाने पर,
वो ढेरों सवाल
वो हज़ारों हिदायतें
वो परवाह, वो फ़िक्र
फिर देर से लौटने पर
तुम्हारा मेरी राह देखना
सबसे पहले, खाना खाया कि नहीं,
और फिर दुनिया भर के सवाल पूछना।
माँ, मैं माँ बनकर तुम्हें समझ पाई
तुम्हारी डाँट में छिपे प्यार को देख पाई।
 
हॉस्टल से घर आने पर
मेरी पसंद का खाना बनाना,
और क्या बनाऊँ
बस यही सवाल बार-बार पूछना,
खाना गरम-गरम परोसना 
ऊपर से एक चमच्च घी डालना
और मुझे खाते देख ही
तुम्हारा पेट भर जाना . . .
माँ, मैं माँ बनकर तुम्हें समझ पाई
तुम्हारी हाथ के खाने का मूल्य जान पाई।
 
कमरे में चुपके-से आकर
सारा सामान क़रीने से लगा जाना
बेतरतीब फैली अलमारी में
जादू की छड़ी घुमाना
और सालों से गुमा हुआ 
एक मोजा यूँ ढूंढ़ निकालना
माँ, मैं माँ बनकर तुम्हें समझ पाई
तुम्हारी जादुई शक्ति पहचान पाई।
 
प्यार, स्नेह और ममता
फ़िक्र परवाह और चिंता
दुआ, आशीष, आशीर्वाद
परिवार के लिए प्रतिबद्ध
मेरे सारे अंतर्द्वंद्व 
बिन कहे भाँप लेना
मेरे सारे दोस्तों के नाम
बचपन के सारे क़िस्से 
कोई भी दर्द और घरेलू नुस्ख़े
कैसे जानती हैं सब कुछ
मुश्किल हैं समझना और समझाना
है भगवान हर जनम में मुझे माँ ही बनाना।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं