अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माँ के हाथ का स्वाद

मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली का गोरखपुर में हुआ मुशायरा सुन रही थी। जिसमें माँ पर सुनाया एक शेर दिलो दिमाग पर छा गया। अल्फ़ाज़ थे :

खट्टा मीठा माँ का प्यार, या हाथों में स्वाद,
हर सब्ज़ी हर दाल में माँ आती है याद।

सबकी आप सबकी प्यारी प्यारी माँ होती है। जिससे कितनी बातें जुड़ी होती हैं। पर बड़े होने पर लगता है कि वह बीता कल था। प्रवर माँ का कल, चाशनी की तरह सबके दिमाग़ में लिपटा-लिपटा सा रहता है और वक़्त-बेवक़्त दस्तक देता रहता है। यहाँ क्योंकि बात स्वाद की हो रही है तो इस शेर के साथ बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के मैटलरजी विभाग के प्रोफ़ेसर ए.के. घोष का चेहरा घूम गया।

एक दिन की बात है कि वह उनकी पत्नी रेखा जी हमसे मिलने आये। बात धीरे-धीरे खाने के स्वाद पर आ गई। वह कहने लगे जब हमारी शादी हुई और हमारी पत्नी रेखा जी ने बनाया तो हमें लाजवाब लगा। धीरे-धीरे उनके द्वारा बनाये लज़ीज़ व्यंजनों की आदत पड़ गई। लेकिन जब कभी अचानक किसी सब्ज़ी या दाल में माँ के बनाये खाने के स्वाद का अहसास हो जाता तो प्यारी माँ के बनाए खानों का स्वाद जीवित हो जाता। लगता माँ जैसा बनाती थी कुछ वैसा है, माँ जैसा बनाती थी, उसका क्या कहना।

शायद कल ही पिछले चालीस-पैंतालिस साल से अमेरिका में बसी बहिन से बात हो रही थी। मैंने पूछा, दीवाली पर क्या बनायेंगीं? कहने लगी, दाल की कचौड़ी और — आलू की सादा सब्ज़ी, जैसी माँ बनाती थीं। फिर कहने लगी उस सादा सब्जी का स्वाद ही अलग था। उन्होंने बताया कि दो दिन पहले उनका नाती आया था उसे दाल वग़ैरा से एलर्जी है। मैंने पालक का साग बनाया, आटे का सालन लगा कर। बहुत अच्छा बना जैसा हमारी माँ बनाती थीं। उसे बहुत अच्छा लगा। साग में माँ के हाथ का इतना स्वाद था, जितना बचा सब मैंने ही खा लिया।

मस्तिष्क भी कमाल का कम्प्यूटर है जिसमें अलग-अलग, एक-एक एहसास, स्वाद, स्पर्श आदि सब सुरक्षित रहता है और मौक़े पर बिना किसी कमांड के मन पर छा जाता है/याद आ जाता है।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

उत्तर भारत का जाड़ा
|

यूँ तो यह कविता 2011 में लिखी थी परंतु 2014…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

ललित निबन्ध

कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं