अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माँ

09.17.2014


सविता अग्रवाल ’सवि’
माँ की मृत्यु हुए क़रीब दो वर्ष बीत गए थे। एक दिन माँ की बहुत याद आ रही थी सोचा कि भाई भाभी से भी मिल आऊँगी और भैय्या भी बीमार चल रहे हैं उन्हें भी देख आऊँगी। पति से कहकर अपना टिकट कराया और माँ के घर चली गई। भाई भाभी ने बड़े प्यार से स्वागत किया और जिस कमरे में माँ की चारपाई होती थी वहीं मेरे सोने का प्रबंध कर दिया मैंने कमरे को सब ओर से देखा – माँ पिताजी की तस्वीर सामने की दीवार पर लगी हुई थी और दोनों की तस्वीरों पर फूलों का हार लगा हुआ था। मैंने माँ और पिताजी की तस्वीर को प्रणाम किया, लगा दोनों ही मुस्कराकर मेरा स्वागत कर रहे हैं। हृदय में खुशी तो हुई परन्तु माँ नहीं थीं वह बहुत बड़ी कमी थी एक खालीपन उस कमरे में छाया हुआ था। मेरी आँखों के सामने वह पुराना दृश्य घूम गया जहाँ माँ की चारपाई होती थी उसके साथ ही एक छोटी सी मेज़ हुआ करती थी जिसे माँ ने एक बार पिताजी के साथ जाकर मेले से दो रुपए में खरीदा था और उस मेज़ का नाम भी दो रुपए वाली मेज़ रख दिया था। जब भी माँ को अपनी दवाई की ज़रूरत होती तो कहतीं थीं ज़रा मेरी दवाई तो ले आ, वहीं दो रुपए वाली मेज़ पर रखी है। हम सभी भाई बहन खूब हँसते थे और माँ से कहते कि अब आप इसका नाम बदल कर पुरानी छोटी मेज़ रख लें परन्तु माँ को तो दो रुपए वाली मेज़ कहना ही अच्छा लगता था। हम सब भी उसके आदी हो गए थे। चारपाई के पास ही माँ ने पिताजी से कहकर एक खूँटी लगवाई थी क्योंकि रात को सोने से पहले माँ के पास एक तुलसी की माला थी, वह जपा करतीं थीं और उसे वे अपने हाथ से सिली हुई एक छोटी सी थैली में रखतीं थीं। सोते समय उसे खूँटी पर लटका दिया करतीं थीं, उन्हें पसंद नहीं था कि माला बिस्तर पर रखी जाए। एक स्कार्फ जिसे माँ ने सर्दी के दिनों में धूप में बैठ कर बनाया था सोने से पहले वे हमेशा उसे तकिये के नीचे रख दिया करती थीं और सुबह उठकर पहन लिया करतीं थीं। एक-एक कर सभी बातें मेरे मस्तिष्क में चलचित्र की तरह घूम रही थीं। परन्तु अब दृश्य बदल गया था। कमरे में जिस चारपाई पर माँ सोतीं थीं उसकी जगह पर आधुनिक पलंग आ गया था। ज़मीन पर रखी मेज़ की जगह पर सुंदर से गलीचे पर बड़ा सा फूलदान रखा था। मैंने पलंग पर बैठ कर लम्बी साँस ली और एकटक दीवार पर लगी माँ- पिताजी की तस्वीर को देखती रही। अपना पर्स टाँगने के लिए खूँटी देखी वह भी नहीं थी। उसका निशाँ भी मिटा दिया गया था, दीवारों पर हरे रंग की जगह पर हलके पीले रंग की छटा बिखर रही थी।

किसी तरह मैंने अपना सामान सूटकेस पर ही रख दिया और माँ पिताजी की यादों में खो गई। पता न चला कब आँख लग गई और सुबह के पाँच बजे पास वाली मस्जिद की अजान से मेरी आँख खुल गई। अजान सुनकर माँ हमेशा कहा करतीं थीं कि.. “लो सुबह हो गई है अपने अपने कामों में लग जाओ”। आज यह कहने वाली माँ इस संसार में नहीं थी। केवल यादें ही शेष रह गयीं थीं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

स्मृति लेख

दोहे

बाल साहित्य कहानी

आप-बीती

कहानी

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं