अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मानवता

वह कीचड़ में गिरी लिथरी पड़ी रही। नज़रें राहुल को ढूँढ रही थीं, मगर राहुल का कहीं पता न था। वह उसे छोड़ कब का आगे निकल चुका था, इतनी तेज़ी में कि पलटकर देखने की भी ज़रूरत नहीं समझी। उसकी आँखों में आँसू आ गए। चोट के दर्द के कारण चाहकर भी उठ नहीं पा रही थी। रात के नौ बज चुके। भीड़-भाड़ और गाड़ियों की चिल्ल-पों के साथ निरंतर आवाजाही से उसके सिर में दर्द हो रहा था। वह राहुल का हाथ थामकर सड़क पार करना चाहती थी, लेकिन राहुल उसे झिड़की देता हुआ आगे बढ़ गया था और वह लड़खड़ाते पैरों से राहुल के पीछे-पीछे चलती हुई कब बहुत पीछे रह गई, उसे पता ही न चला। जबतक सँभलती, पैर कीचड़ में धँस चुके थे और वह धम्म से जा गिरी थी।

वह चीखना चाहती थी, मगर कंठ अवरुद्ध हो गया था। दिमाग़ चक्कर खाने लगा कि जिसके लिए घर-परिवार, जात-बिरादरी यहाँ तक कि वह प्रदेश ही छोड़ दिया, वही राहुल अपने परिवार और बिरादरी की ख़ातिर उस खून के आँसू रुला रहा है। उसका प्रेम क्रूर होने लगा और बात-बात पर आक्षेप, व्यंग्य और लांछन लगाना राहुल के लिए आम बात हो गई। अभी भी उसकी हालत को राहुल ने बहाना समझकर झिड़क दिया और...। गिरने से शरीर पर लगी चोट से कहीं अधिक मनोव्यथा उसे पीड़ित करने लगी। दस मिनट बीते न होंगे कि एक नवयुवक ने झुककर उसकी तरफ़ हाथ बढ़ाया और स्नेहिल शब्दों में कहा, "आप घबराएँ नहीं। मैं आपको घर तक छोड़ दूँगा।"

"मगर मैं..."

वह आगे बोल न सकी। नवयुवक ने अपने कपड़े गंदे होने की परवाह किए बिना उसे सहारा देकर उठाया और सड़क पार कराता हुआ उसे आश्वस्त करता रहा कि वह बड़ी दुर्घटना से बच गई और इसके लिए उसे ईश्वर को धन्यवाद देना चाहिए। वह, उलीचे हुए ज़ख़्म पर स्नेहिल शब्दों का मरहम पाकर आश्वस्त होने लगी। उसने ईश्वर को मन ही मन नमन किया। रिश्तों की व्यावहारिकता पर उसकी सोच गहरी होती, इतने में युवक ने इशारे से रिक्शा बुलवा दिया और उसे सहूलियत से बिठाते हुए फिर पूछा, "आप अकेली चली जाएँगी ना !"

"हाँ" से अधिक वह फिर बोल ना पाई। इतनी भाव विह्वल हो गई कि न नाम पूछा, ना धन्यवाद दिया। युवक उसकी माटी सनी हथेलियों को थपथपाते हुए कहा, "टेक केयर" और देखते ही देखते आँख से ओझल हो गया। रास्ते भर वह सोचती रही कि यह क्या था— एक साधारण दुर्घटना; एक मानसिक अव्यवस्था का परिणाम या उस नवयुवक के रूप में मानवता का नया रूप? राहुल जैसे सभ्य और लब्धप्रतिष्ठित लोग जिसके समूल नष्ट होने की बातें करते हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

बाल साहित्य कहानी

कविता

पुस्तक समीक्षा

अनूदित कविता

शोध निबन्ध

लघुकथा

यात्रा-संस्मरण

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं