अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मारी

मारी हमारे घर में कई सालों पहले नियुक्त एक दस साल की छोटी सहायक थी जो मेरी नवजात शिशु की देखभाल करने में मेरी मदद कर सकती थी। उसकी माँ गुज़र चुकी थी और मज़दूर बने उसके पिता को उसे घर में अकेले छोड़ काम पर जाना मुश्किल महसूस हो रहा था, सो जब उन्हें मालूम पड़ा कि हम एक सहायक की खोज में हैं तो उन्होंने दिन भर हमारे यहाँ छोड़ने का निश्चय किया ताकि आम के आम, गुठली के दाम भी मिलें! 

मेरी बच्ची के लिए जो ढेर सारे खिलौने भेंट में आए, उनसे मारी रोती बच्ची का मन बहलाती और चुप कराती। उसे स्कूल जाने या शिक्षा ग्रहण करने की कोई इच्छा न थी, फिर भी मैं उसे फ़ुर्सत के समय कुछ पढ़ाने-सिखाने की कोशिश करती ताकि उसके लिए काला अक्षर भैंस बराबर न हो!

संयोगवश मेरे देवर की शादी तय हुई थी और हम सब शादी की सारी तैयारियाँ करने में व्यस्त थे। ऐसे समय में मारी ख़ूब काम आई। उसके रहते अपनी बच्ची को अकेले छोड़ काम में व्यस्त होने की नौबत कदापि न आती और मैं आराम से अपना सारा काम कर पाती। शादी के लिए सब के नए कपड़े ख़रीदे गए और मारी को भी उसकी ड्रेस पसंद आयी। 

ऐन मौक़े पर हम सब अपने नये कपड़े पहनकर मंडप को दूल्हे सहित वैन में प्रस्थान हुए। मंडप पहुँचते ही हम सब इतने व्यस्त हो गए कि किसी को भूख-प्यास की याद तक न आई। देर रात तक सब जगे रहे और बैंड-बाजे की आवाज़ के साथ-साथ सारी रस्में चल रही थीं। अगले दिन प्रातःकाल शुभमुहूर्त था जिसका सब बड़े बेताबी से इंतज़ार कर रहे थे। सुबह के नौ बजे तक जब शुभमुहूर्त संपन्न हो चुका था तो तब जाकर सबने चैन की साँस ली। मेरी बच्ची को हर कोई पहली बार देख रहा था, और मैं पाती कि वह किसी न किसी रिश्तेदार की गोदी में होती और वे बड़े प्यार से उससे खेल रहे होते। 

अचानक मुझे मारी की याद आई। मैंने पाया कि मेरी बच्ची के साथ हमेशा पायी जाती मारी काफ़ी समय से कहीं नहीं दिख रही थी। इतने बड़े मंडप में उसे ढूँढ़ना भी मुश्किल था। इसलिए मैं हर किसी से पूछने लगी कि यदि उन्होंने मारी को देखा पर हर किसी ने ‘नहीं’ का जवाब ही दिया। अब मुझे चिंता सताने लगी कि आख़िर मारी कहाँ गई होगी! किसी दूर के रिश्तेदार ने सलाह दी कि हम पुलिस को सूचित करें। पर हम बात का बतंगड़ नहीं बनाना चाहते थे और हमें इससे परहेज़ था। फिर भी हमने उसे ढूँढ़ने की पुरज़ोर कोशिश की। मंडप के मैनेजर और उनके सेवकों की सहायता से हमने मंडप का चप्पा-चप्पा ढूँढ़ा और आख़िर हमारी मेहनत सफल हुई। एक कर्मचारी ने पाया कि मारी एक खाट के नीचे सारी हलचलों से अनभिज्ञ आराम से ऊँघ रही थी। जब उसे जगाया गया तो वह ऐसे उठी जैसे उसे किसी ने उसकी गहरी नींद को भंग कर दिया हो! चार-पाँच तनावपूर्ण घंटों के बाद जब हमें सूचना मिली कि मारी मिल गई है तो हमारी जान में जान आई। आख़िर पुलिस की चक्कर में पड़ने की नौबत न आई और भगवान की कृपा से इन सारे झंझटों से बच गए। 

रात भर हमारे संग ही जगी रही मारी जैसी छोटी बच्ची का थक जाना स्वाभाविक था, अतः उसे किसी ने भी डाँटना ठीक न समझा। जब हमने उसे सारी कहानी बताई तो वह बड़ी मासूमियत से ख़ूब हँसने लगी। उसे सब कुछ मज़ाक लग रहा था! 

मेरी बेटी बड़ी हो गई और स्थितियाँ बदली तो मारी अपने घर चली गई। पर मारी की यह घटना हमारे लिए चिरस्मरणीय बन गई। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपनी विलक्षण अनुभूतियाँ
|

(जब अपने मुख पर स्व. पापा की छवि देखी) आज…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं