अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

महान तितली

विज्ञान की एक किताब थी खुली
उस पर जा बैठी एक तितली
तितली थोड़ी लिखी पढ़ी थी
किसी  ज्ञानी के घर पली बढ़ी थी

 

और अध्याय भी था तितलियों ही का खुला
सो एक तो करेला ऊपर से नीम चढ़ा
अब तितली ने धीरे धीरे
गहन अध्ययन शुरू कर दिया
तितलियों का जीव विज्ञान 
अक्षरशः पूरा पढ़ लिया

 

कितनी सारी बातें पढ़ लीं
जो पहले उसने थी कभी ना जानी
पढ़ते पढ़ते यूँ सोचने लगी
मैं पहले थी कितनी अज्ञानी

 

तितलियों के पंखों के विषय में
कुछ इतना ज़्यादा ज्ञान पा लिया
कि उस ज्ञान बोध ने उसको मन को 
बड़ी गहरी चिंता से भर दिया

 

जाना उसने कि तितलियों के पंख
बड़े नाज़ुक और हल्के होते हैं
और तितली के पूरे शरीर का 
भार जाने वे कैसे ढोते हैं
एरोडाइनेमिक्स के किसी भी सिद्धांत से
तितली का तो उड़ना ही है ग़लत
जो इतने बोझ से यदि पंख फट जाएँ
तब कहीं ये बात होगी तर्क सम्मत

 

ये सब बातें जान समझ कर
अध्ययन मनन से स्वज्ञान को पाकर
तितली का अंतरतम जागा
तत्क्षण उसने संसार को त्यागा

 

अब ना कभी वो उड़ने पाती
ना फूलों का रस पीने पाती
और जब देखती अज्ञानियों को उड़ते
तो शास्त्र का ज्ञान उन्हें देने जाती

 

झुके कंधों और थके चेहरे से
कभी कभी वो आकाश को तकती
उड़ते देख अन्य तितलियों को
मन मे उसके भी एक कसक सी उठती

 

पर उसका बुद्धिजीवी मन
तत्क्षण स्वयं को समझा लेता
कि यूँ उड़ना स्वच्छन्द आकाश में
क्या ज्ञानियों को है शोभा देता

 

जैसे जैसे समय गुज़रता
ख्याति उसकी बढ़ती जाती
दूर दूर से दर्शन हेतु
भक्तों चेलों की टोलियाँ आतीं

 

सड़ता जाता भीतर जीवन
अतृप्त वासना से घिरा रहता मन

 

पर सुन सुन के स्वयं की प्रशंसा
अहंकार को मिलती तृप्ति 
और जो आनंद से जीवन जीते थे
उनकी निंदा से मिलती थी शक्ति

 

यूँ ही तप और उपवासों से 
काटा उसने सारा जीवन
नैसर्गिक जो इच्छायें थीं
किया उन्हीं का सदा दमन

 

जब अंत निकट आया जीवन का
और भय पकड़ा मृत्यु दर्शन का

 

तब ख़ूब टटोला भीतर किन्तु
उधार ज्ञान कुछ काम ना आया
बासी और बोझिल जीवन की
स्मृतियों से मुख मुरझाया

 

भक्तों की भी भीड़ देखकर
भीतर कोई सांत्वना ना मिली
और ज्ञान व नीति के बोझ से दबकर
अंततः चल बसी वो महात्मा तितली 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं