अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं और मेरी परछाईं

बचपन से
अपनी परछाईं के साथ
स्पर्धा करने का
अजीब सा शौक़ हुआ।
चलते हुए जब
दौड़ने का ख़्याल आया,
अपनी परछाई को तो हराना ही था,
हैरत तो तब हुई जब
मेरी परछाई ने भी,
हार नहीं मानी,
काँटे की जब टक्कर हुई,
मैं क्षुब्ध हुआ,
खीजा, पर हार नहीं मानी,
कमबख़्त वो भी मुझे
अब चिढ़ाने लगी थी,
मैं बेबस था,
इस दुश्मन से निपटना जो था,
हद तो तब हुई,
जब उसने मेरी नक़ल शुरू की,
मैं जो करता था,
वो हूबहू वही करने लगी,
मेरा क्रोध -
चरम सीमा पर तो था मगर,
अब मुझे उसकी
आदत सी हो गयी थी,
न कोई चारा होते हुए,
उससे दोस्ती कर ली,
हमारी बातें होने लगीं,
उसका साथ भाने लगा,
मैं बड़ा हुआ तो वह भी
मेरे साथ बड़ी हुई,
मैं अब जीवन की
ऊहापोह में खो चला था,
मैं अब उसको मैं भूल... 
नए रिश्तों में मगन हुआ,
साल बीते रिश्ते बिछड़ने लगे,
मैं अकेला हुआ,
मेरा अब कोई साथ न था,
तन्हाई के सिवा,
बचपन के दिन मुझे
अब याद आने लगे थे,
तभी अपनी
परछाई का ख्याल जो आया,
फिर निकल गया बाहर मैं
उसकी तलाश में,
धूप तो खूब सजी थी
और मैं फिर चलने लगा,
चाल धीमी थी,
उम्र का तकाज़ा जो था,
मैं चौंका और
चौंक कर विस्मृत हुआ,
वो मेरे साथ थी और
साथ ही चल रही थी मेरे,
अपार ख़ुशी के साथ
बेहद सुकून सा हुआ,
भावनाएँ उमड़ चली थीं,
अश्रु द्वार खुल गए थे,
मैं अब अकेला न था,
परछाई साथ हो चली 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं