अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं और मेरी चाय

मैं और मेरी चाय –
चलो चाय बनायें 
ख़ुद से बतियायें, 
भय से काँपता कौन आयेगा, 
उम्र ७६ के पार हो गई –
सब हम उमर के डर से घर में छिपे बैठे हैं! 
तभी काँच के दर पर, 
खट खट ने चौंका दिया! 
बरसों से अलमारी में बंद चाय के सैट ने दस्तक दी,
शायद वह क़ैद से उकता गई थी, 
किसी से आप-बीती कहने को बेताब / आतुर थी, 
नज़र मिली तो बात बन गई। 
 
चाय की केतली चढ़ी,
दूधदानी में दूध और, चीनीदानी में चीनी, 
कपों को गर्म पानी से खंगाला गया, 
केतली में चायपत्ती पानी डाल,
फूलदार टिकोज़ी से ढक दिया, 
ट्रे में सबको सजा कर रख ही रहे थे, 
कि, पारले जी भी कूद कर बैठ गया। 
 
अब चाय का कप और मैं, बतियाने लगे, 
चाय की चुस्की के साथ पुरानी यादें रस घोलने लगीं। 
चाय के उठते धुँए में क़िस्सों के छल्ले बनने लगे, 
हिलते हाथों में लिया कप – गुनगुनाने लगा, 
मैं और चाय यूँ बतियाने लगे, जैसे 
बरसों के बिछड़े आज मिले हों! 
तभी पारले जी ने टपक कर, 
यादों की चाशनी घोल दी, 
हँसते-हँसते टिकोज़ी को आँसू आ गये, 
चाय और मैं पुरानी यादों के समंदर में खो गये। 
मैं और मेरी चाय!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ललित निबन्ध

कविता

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं