अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं गुनहगार हूँ!!

हर इल्जाम अपने सर लेने को तैयार हूँ,
मैं सच बोलता हूँ इसलिए गुनहगार हूँ।
हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

आज के दौर में जो हर घड़ी बदलता हो रंग,
समय के साथ ही जिसका परिवर्तित हो ढंग।
वही सबसे अच्छा जो मुँह देख बात बनाता हो,
स्वार्थ सिद्धि के लिए रोज़ नए स्वांग रचाता हो।
जिसे लगती हों खोखली बातें आदर्शों की सभी,
जो चाहता ही नहीं निकलना उस पिंजड़े से कभी।
ऐसे लोगों का विरोध मैं तो करता हरबार हूँ॥


हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

मैं ख़ुश हूँ क्योंकि रातों को चैन से सो पाता हूँ,
किसी भी शख़्स से अपनी नज़रें नहीं चुराता हूँ।
मुझे जो मिला वो किसी की मेहरबानी नहीं है,
किसी के पास भी गिरवी मेरी ज़िन्दगानी नहीं है।
बिना लाग लपेट के मैं अपनी हर बात कहता हूँ,
किसी के डर से मैं आज भी राह नहीं बदलता हूँ।
ग़म नहीं गर ना मिला जिसका मैं हकदार हूँ।
हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

 

मैं आज भी झूठ को झूठ, सच को सच लिखता हूँ,
मैं अन्दर से जो हूँ वही सबको बाहर भी दिखता हूँ।
मेरी बातें आईना हैं मेरी समझ की मेरी सोच की,
मुझे परवाह है लगी मानवता पर हर खरोंच की।
मैं महान बनने के लिए हरगिज़ वो बातें नहीं करता,
जिन पर मैं स्वेच्छा से कभी ख़ुद अमल नहीं करता।
मुझे एहसास है कि मैं खड़ा नदी के किस पार हूँ।
हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

 

मैं नव सृजन के नाम पर नग्नता फूहड़ता नहीं बेचता,
मैं अश्लीलता को आधुनिकता के चश्में से नहीं देखता।
नवयुवकों का पाश्विक अश्लील आचरण मुझे भाता नहीं,
नंगेपन को आज भी कहीं आधुनिकता कहा जाता नहीं।
माँ बाप को अपने कृत्यों से जग में ना शर्मसार करो,
मर्यादाओं को क्षणिक सुख के लिए ना तार तार करो।
मैं शर्म से बिलखते उस पिता के नयनों की धार हूँ।
हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

 

स्त्रियों के हितों से मेरा भी सरोकार बहुत गहरा है,
मैं जानता हूँ कि समाज इस मुद्दे पर गूँगा बहरा है।
प्रेम को मान्यता देने से आज भी समाज कतराता है,
प्रेमियों की हत्याएँ आज भी क्रूर समाज करवाता है।
मगर विरोध का तरीका भी शालीन होना चाहिए,
प्रेम की पवित्रता पर हमको अभिमान होना चाहिए।
मैं अपनी माँ बहन प्रेयसी से करता रजत प्यार हूँ।
हाँ मैं गुनहगार हूँ!! हाँ मैं गुनहगार हूँ!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं