अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं लिखता रहूँगा

मुझे मालूम है 
मेरे लिखने से
सत्ता के कानों में
जूँ तक नहीं रेंगेगी 
मगर मैं लिखता रहूँगा
उन बदनसीब गिर वासी
वनवासी, निरीह आदिवासियों 
के लिए 
जो तुम्हारे उदर की पूर्ति 
करते करते सिमट गए
हिंसक पशुओं के बीच 
भयानक जंगल में 
जंगली जीवों को तो 
कर लिया वशीभूत 
उन्होंने अपने प्रेम से
पर वो बचा नहीं पाएँगे
ख़ुद को दुनिया के सबसे
ख़तरनाक जानवर से शायद ..!
 
मुझे मालूम है 
मेरे लिखने से
भर नहीं सकेगा 
भूख का पेट
मगर मैं लिखता रहूँगा
उन मजबूर मज़दूरों के लिए
जो अन्न के एक निवाले के लिए
अपनी हड्डियों की कुदाल
बनाकर, भरकर अपने स्वेद से
तुम्हारा स्विमिंग पूल,
बना रहे हैं, अपने रुधिर से
तुम्हारे लिए ऊँचा आशियाना
और स्वयं सो जाते हैं
बिछाकर धरती का बिछौना
ओढ़कर ऊँचा आसमां ।
 
मुझे मालूम है
मेरे लिखने से 
नहीं रुकेंगी आत्म हत्याएँ
मगर मैं लिखता रहूँगा
उन बेबस किसानों के लिए
जो तुम्हारे बनाए हुए
क़ानूनों में उलझ कर रह जाते हैं
क्षुधा तुम्हारी मिटाते-मिटाते 
ख़ुद भूखे सो जाते हैं
फँसकर कर्ज़ के मकड़जाल में
पत्नी को विधवा और
बच्चों को अनाथ कर जाते हैं ।
 
मुझे मालूम है
मेरे लिखने से 
नहीं रुकेंगे
हत्याएँ और बलात्कार
मगर मैं लिखता रहूँगा
सृष्टि के अंतिम पायदान
पर रहने वाले 
मज़दूर  और  किसान  के  लिए
बेबस   और   लाचार  के  लिए
न्याय   और  सर्वाहार  के  लिए
आधी आबादी के अधिकार के लिए
हाँ, मैं लिखता रहूँगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं