अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं तो तेरे अंदर ही हूँ

मुझे कहाँ खोज रहा,
मैं तो तेरे अंदर ही हूँ।
इधर-उधर कहाँ यूँ भटक रहा,
अंदर झाँक मैं वहीं हूँ।
  
ओम् की ध्वनि में, अज़ान की पुकार में,
मंदिर के गर्भ गृह में, मस्जिद की मीनारों में,
गीता के उपदेशों में, क़ुरान की आयतों में,
ईश्वर की मूरत में, ख़ुदा की सूरत में,
काशी विश्वनाथ में, मक्का मदीना में,
सृष्टि के कण कण में, जहान के हर ज़र्रे में,
मेरा अंग अंग मिला तुझमें, मैं कहाँ अलग तुझसे।
 
मुझे कहाँ खोज रहा,
मैं तो तेरे अंदर ही हूँ।
इधर-उधर कहाँ यूँ भटक रहा,
अंदर झाँक मैं वहीं हूँ।
 
दूसरों की ओर मदद करते बढ़ते उन हाथों में,
तेरे अंदर बसी सच्चाई, इंसानियत की चाहतों में,
गर ग़लत उठते क़दम को जला कर राख करते,
मन के दशमुँहे रावण को मिटाकर राम करते,
ख़ुद की तलब भुलाकर दूसरों की प्यास बुझाते,
जिस्म से रूह तक का सफ़र तय करती हर सोच में,
अपने अंदर के अँधेरे को रूहानियत सा नूर करते,
तेरे हर सफ़र में, दर्द में, तेरी मंज़िल तक,
तेरे साथ मिलकर तुझसे जो चला,
वो मैं ही तो हूँ।
 
मुझे कहाँ खोज रहा,
मैं तो तेरे अंदर ही हूँ।
इधर-उधर कहाँ यूँ भटक रहा,
अंदर झाँक मैं वहीं हूँ।
 
सही-ग़लत के जुस्तजू में, अच्छाई-बुराई के जिहाद में,
सच-झूठ के तेरे फ़ैसले में, काले-सफ़ेद के ज़द्दोजेहद में,
ज़मीर की ख़ुद से हो रही लड़ाई में, वफ़ा-बेवफ़ाई के मायने में,
सच्ची ताबनाक की खोज में, ख़ुद को जगाने के शोध में,
कर्मों के पाप-पुण्य के भेद में, मुक़द्दस तस्कीन में,
तेरा आधार, तेरा हमसफ़र, तेरे अंदर की आवाज़ बन,
तेरा हाथ थामे, तेरा अक़्स बन जो चला,
वो मैं ही तो हूँ।
 
मुझे कहाँ खोज रहा,
मैं तो तेरे अंदर ही हूँ।
इधर-उधर कहाँ यूँ भटक रहा,
अंदर झाँक मैं वहीं हूँ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं