अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मजबूरी के हाइवे

बातें कुछ और भी हैं ग़ौर करने के लिए
सिर्फ़ वही नहीं जो राजनैतिक हों
किसीकी भक्त बन तारीफ़ हो 
या किसीकी व्यक्तिगत नफ़रत भरी आलोचना हो
या चर्चा जिनके सिर्फ़ इकॉनमी से ही ताल्लुक़ात हों
और भी हैं बातें 
जिन पर ग़ौर करना चाहिए
सिर्फ़ चीन की बात पर हम ना रुकेंगे
या कोरोना के डर से चुप हो कुछ ना कहें
संवेदनाओं का जो मंज़र देखा अभी था
सैकड़ों मासूम के छाले अभी जो पाँवों के
और जो हमने बैलों के साथ खींची थीं गाड़ियाँ
या उस माँ ने प्रसव की पीड़ा सही थी धूप में
जो भविष्य देश का सूनी सड़क पर ही जना था
वो कड़ी जब ज्येष्ठ तप कर पूछती थी
कहाँ हैं वो मसीहे जिन्होंने ग़रीबी निवारण के वादे किए थे?
साथ देंगे, हाथ देंगे, हर विपत्ति बाँट लेंगे
जो सभाओं में तुम्हारे नाम का गर्जन किये थे
आज फिर लौट आया है भारत अपने-अपने गाँवों में
इंडिया से वक़्त पूछेगा कि तेरे हालात क्या हैं?
हमें सिर्फ़ चीन की बातों में नहीं भरामाओ
ए हुक्मरान!
और भी  प्रश्न हैं जिनके जबाब चाहिएँ हमें
तुम जब वर्चुअल दुनिया में व्यस्त थे
हमने नापा था नंगे पाँव पूरा हिन्दुस्तान
अब बात भी होगी और जबाव भी माँगेंगे
क्योंकि आपके छद्म वादों की जो भक्ति थी 
पसीने के साथ बह गई उसी हाईवे पर
अब बात होगी चीन से भी
और बेरोज़गारी पर भी
पर्यावरणीय आधारित विकास पर
और जियो के नशे में चूर
साज़िश के शिकार इन युवाओं पर भी
क्या ये नया हिन्दुस्तान होगा?
जो ज़िंदा रहे तो प्रश्न पूछेगा
ये युवा, जो मज़दूर भी है 
जिन्होंने खोया है बहुत कुछ
जो भर नहीं पाएगा
सिर्फ़ पैसों के अनुदान से
ये कम्पनी राज नहीं,
हम सिर्फ़ मज़दूर नहीं
है आज़ाद हिन्दुस्तान है
बात करेगा, भूलेगा नहीं

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं