अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मस्जिद की तामीर के लिए

मोली साहब की उम्र मेरे ही बराबर होगी, लगभग बीस साल। वो मेरे मुहल्ले में आये थे बच्चों को उर्दू-अरबी की तालीम देने। कुछ दिन तालीम देने के बाद वो चले गये। कभी-कभी मुझसे मिलने आ जाते थे। चूँकि मैं भी घर से बाहर ही रहता हूँ, इसलिये वो पता करते रहते थे कि मैं घर कब आ रहा हूँ? और इस बार ईद पर उनसे मुलाकात हो गयी।

ईद की मुबारकबाद देने के बाद उन्होंने कहा, “चलिये चाट खाते हैं।“ पैसे देने के लिये जब मैं अपनी जेब में हाथ डालने लगा तो वे बोले, “बबलू भाई! पैसा हम देंगे।“ मैंने कहा, “किस खुशी में?” तो उन्होंने कहा, “खुशी क्या बतायें? बस हम देंगे।“

मैं जानता था कि ये वही मोली साहब हैं जो मेरे मुहल्ले में बच्चों को तालीम देते थे। हर घर से ५० रुपया महीना पाते थे और बारी-बारी से पूरे मुहल्ले में खाते थे। रहने का इन्तजाम भी मुहल्ले में ही कर दिया गया था। मैंने सोचा, क्या परेशान करूँ? लेकिन जब वो ज्यादा जिद करने लगे तो मैंने कहा, “चलिये ज्यादा ख्वाहिश है तो दीजिये।“

चाट वाले को चार रुपये देने के लिये जब उन्होंने पैसे निकाले तो मैं तो हैरान रह गया। और मुँह से अचानक निकल गया, “अरे वाह! आप तो पूरी गड्डी लिये हैं।“

“बबलू भाई! इस महीने हमने कुल तेरह हजार रुपये कमाए हैं।“

“वो कैसे?”

“मस्जिद की इमामत करते हैं। सुबह दो ट्यूशन करते हैं और रसीद काटे हैं।“

“ये रसीद किस चीज की?”

“मस्जिद की।“

“मस्जिद की? मतलब?”

“देखिये, आधा पैसा कमीशन मिलता है।“

“ज़रा खुल के बताइये।“

“देखिये बबलू भाई! जैसे आप जौनपुर के हैं और बनारस से चन्दा इकट्ठा करके लाते हैं। रसीद काटते हैं तो आपको आधा पैसा कमीशन मिलता है। और अगर मस्जिद जौनपुर की ही रहेगी तो आपको कुछ नहीं मिलेगा। देखते नहीं हैं इसीलिये लोग बहुत दूर-दूर से चन्दा माँगने आते हैं।“

“तो आप कहाँ-कहाँ से चन्दा लेने गये?”

“हम तो बनारस से कुछ काटे हैं, कुछ अपने घर बिहार से भी रसीद काटे हैं। ऐसे ही बारह-तेरह हजार मिल गये।“

इतनी बातें करने के बाद या कह लीजिये कि होने के बाद मेरे अन्दर इतनी हिम्मत न बच सकी कि मैं और बातें कर सकता। मैंने मोली साहब से कहा, “चलिये आपको आटो में बैठा देते हैं।“ आटो में बैठकर जाते वक्‍त मोली साहब ये कह गये कि, “दुआ में याद रखियेगा।“

मोली साहब के गये हुए आज दस दिन हो गये हैं। मोली साहब सिर्फ़ याद ही नहीं आते हैं, परेशान भी करते हैं। याद वो इसलिये आते हैं कि एक अजीब सा सच मुझे बता गये हैं और परेशान इसलिये करते हैं कि आम आदमी की जेब से ’मस्जिद की तामीर’ के नाम पर पैसा लेने वाले मुल्ला-मौलवी आधा पैसा अपनी जेब में डाल लेते हैं।

अब मैं इस कशमकश में हूँ कि मोली साहब के लिये क्या दुआ करूँ? ये कि, “या ख़ुदा! इन तथाकथित मक्कार मुल्ला-मौलवियों से बचा ले।“

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं