अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मौत के मिथक

हमारे मानस
मिथकों से भरे हैं
दशहरे के मिथक तो
बड़े ही रोचक हैं
राम-लीला से लेकर
रावण दहन के मिथक
प्राणवायु की तरह हैं
ऐसे मिथकों में
धर्म की
अधर्म पर जीत होती है
बुराई हार जाती है
अच्छाई से
हर तरफ़, हर पल
तैरती रहती है
जीवन की संगीत लहरियाँ

एलफिंस्टन रोड स्टेशन
के भी मिथक हैं
असमय
काल कवलित होने वाले
22 लोग बन गये हैं
इस मिथक के हिस्से
उनका नाम भी जुड़ गया है
जॉन एलफिंस्टन से

भले ही उम्र 104 साल की है
लेकिन है वह बड़ा उत्सवधर्मी
मौत पर भी गाता है
ख़ुशी के गीत
बाँहों में जकड़कर
लील लेता है लोगों के प्राण
फिर लगाता है
एक ज़ोरदार अट्ठहास
जिसकी अनुगूँज से
काँपने लगती है
सितारों की दुनिया

स्वार्थ के दीप
जल रहे हैं चहुं ओर
विषबेलें बड़ी हो रही हैं
विस्मृति के कुहासे में
छुप गई हैं
अनचाहे लोगों की स्मृतियाँ

उनके क़िस्से
नहीं होते हैं रोचक
उनकी मौत में
नहीं होता है जीवन संगीत
बियावन में खो जाना
उनका नसीब है
वे नायक का किरदार
नहीं निभा पाते हैं
उनके जीवन पर
नहीं खेले जाते हैं
नुक्कड़ नाटक
उनकी जान की क़ीमत
लाख-दो लाख से
ज़्यादा की नहीं होती
कभी-कभी तो
हज़ार-दो हज़ार की

उनके दिल धड़कने का सबब
कभी नहीं जान पाते हैं हम
उनकी मौत के बाद
अकेलेपन की पगडंडी पर
चलना पड़ता है
उनके परिवार को
शून्य में निहारना
उनकी नियति होती है

अश्रुपूर्ण आँखों से
गंगा में प्रवाहित किया गया अस्थिकलश
फिर भी
नहीं रखा गया उनका हिसाब
रेहड़ी वाले, खोमचे वाले
या फिर
नौकरीपेशा लोगों की मौत
इस बार भी
नहीं बन पाई मिथक

अच्छा है
मौत के मिथक
प्राणवायु नहीं होते
नहीं तो
हमारी ज़िंदगी भी
रोज़ हो जाती
कुनैन की तरह कड़वी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं