अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेघ जीवन

किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।
नवनीत मेघ तब ऊपर आता,
नवजीवन देने भूतल को।

था क़तरा क़तरा सा पहले,
धुनी तूल सा पूर्ण धवल।
घनीभूत जुड़ जुड़ के हुआ तो,
धरा काली घटा का रूप प्रबल।
दमका तड़ित प्रचंड महा,
चला चीर अम्बर के पटल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

चलना उसका काम सदा ही,
रुकने का कभी नाम नहीं।
पर्वत नगर डगर लाँघे,
पीछे मुड़ने का काम नहीं।
उमड़ घुमड़ मँडराता डोले,
गरजा पूरे नभ मण्डल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

आशाभरे नयन कृषकों के,
बाँध टकटकी तुझे देखते।
दादुर मोर पपीहा प्यारे,
स्वागत में किलकारी भरते।
ग्राम बाल तुझे देख देख कर,
नाचे बजा बजा करतल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

परदेश बसे प्रीतम जिनके,
इक टीस हृदय में तू भरता।
गिनके जो काटे दिन उनको,
पिया मिलन को आतुर करता।
विरहणियों का मूक संदेशा,
लेजा शीतल करता अनल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

कृषकों के प्यासे नयन परख,
सूखी सरिता सर कूप देख।
विहगों का व्याकुल कलरव सुन,
प्यासी धरती की ज्वाला देख।
हुआ द्रवित परम महा दानी,
बूंद बूंद बरसा कर जल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

फलीभूत की कृषक कामना,
खेतों में बरसा वारि सुधासम।
वापी कूप तडागों को भर,
हर्षाया धरणी का जन मन।
मिटा मेघ इस परोपकार में,
त्याग तुच्छ जीवन चंचल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

महाकवि के मेघ धन्य तुम,
तुझसा नहीं कोई बड़भागी।
परोपकार के लिए ही पनपा,
तुझसे बड़ा नहीं कोई त्यागी।
सफल उन्हीं का जीवन जग में,
पीते जो परहित में गरल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

देशवासियों तुम अपनाओ,
मेघ के जैसा जीवन पावन।
करो त्याग से देश की सेवा,
बन जाओ जन जन के भावन।
'नमन' करे सारा जग फिर से,
जगद्गुरु के अक्षय बल को।
किरणों की मथनी से सूरज,
मथता जब सागर जल को।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

आओ सुबह बनकर
|

मन साँझ -सा बोझिल है, तुम बनके सुबह आओ मेरे…

आज मुझमें बज रहा जो तार है
|

आज मुझमें बज रहा जो तार है, वो मैं नहीं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

ग़ज़ल

नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं