अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेला

मोहन पन्द्रह साल बाद गाँव आया। मोहन के लिये वह गाँव कम और शहर ज़्यादा हो गया था मतलब पूरा ख़ाका ही बदल गया था। 

थोड़ी ही देर बाद मोहन का मित्र चंदु उसे मिलने आया और उसने पूछा, "अरे! मोहन कैसा है तू, कब आया शहर से क्या हाल चाल है ...?"

"यार मोहन अपने शहर में मेला लगा है, चलो देखने चलते हैं।"

मोहन ने सोचा मेला तो गाँव में लगता था... मतलब... गाँव शहर कब हो गया?

दोनों मित्र मेला देखने चले तो क्या देखते हैं कि मेला स्थल की काया ही पलट गई। पंद्रह साल पहले एक किलोमीटर पहले ही मेले की रौनक़ शुरू हो जाती थी। बेचने हेतु भारी संख्या पशु आदि आते थे व कच्ची सड़क के दोनों तरफ़ पेड़ होते थे। वे सब सब कहाँ गये? और मेला एक सीमित क्षेत्र में कैसे हो गया?

मोहन चिंतन करने लगा, तभी  चंदु ने पूछा, "इतना कहाँ खो गया यार! पता है अब मेला छोटा हो गया है। बढ़ते मशीनीकरण से पशु अब नहीं आते। अरे! धुआँ नहीं दिखता तेरे को? यहाँ फ़ैक्ट्रियाँ लग गई हैं। मेला इनके नीचे दब गया है। और अपना गाँव शहर बन गया है।"

चंदू के स्वभाव और बातों में भी भिन्नता आ गई थी। मोहन क्षुब्ध हो पुन: अपने शहर  चला गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं