अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरा बुजु़र्ग

पंजाबी कविता

हिन्दी अनुवाद : सुभाष नीरव

पानी पर पड़ी लकीर को
अभी भी
पत्थर की लकीर समझता है
मेरा बुजु़र्ग।

बेगाने फूल–पौधों को सींचता
वह खुद ही खिल उठता है
गाय–भैंसों की पीठ थपथपाता
दूध–पूत की खैर माँगता है

हल की मूठ पर हाथ रखते हुए
सरबत का भला चाहता है
मिट्टी संग मिट्टी हो जाता है।

वह अपने हाथों लाया है
हरा, सफ़ेद और नीला इंकलाब
और उसके तन पर
अभी भी बहता है खुश्क दरिया।

जेठ- आषाढ़ में तपते, चिपचिपाते बदन
और उधर अंदर चमचमाते चिकने तन
जिस्मों में खुशी खोजते मन
और उसकी पुश्तैनी सोच
उससे बार–बार होती है मुखातिब
यह तो महज नसीबों का खेल है।

कभी–कभी वह सोचता है
बेशक समुन्दर में घड़ियाल हैं
पर मछलियाँ खूब तैरती हैं।


परिंदों को उड़ने को आकाश
रहने को घर है
और मेरे पास क्या है?
गौरवमयी संस्कृति का देश!
गुलामी की प्रथा को बरकरार रखने के लिए
मेरी अपनी सन्तान।

कभी–कभी वह फिर सोचता है
और तलाशता है
देर है, अंधेर नहीं के अर्थ
सख़्त–खुरदरे हाथों पर से
मिटती–लुप्त होती लकीरें।

पानी पर पड़ी लकीर को
अभी भी
पत्थर की लकीर समझता है
मेरा बुजु़र्ग।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अजनबी औरत
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अनुकरण
|

मूल कवि : उत्तम कांबळे डॉ. कोल्हारे दत्ता…

अपनी बेटी के नाम
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अपने मठ की ओर
|

अपने मठ की ओर  (पंजाबी कविता) लेखक…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

अनूदित कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं