अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरी थकान

प्रिय मित्रो,

कई बार थक जाता हूँ। यह केवल शारीरिक थकान नहीं है, मानसिक थकान है, कुंठा से उपजी थकान है, निरंतर संघर्ष की थकान है, दूसरों को प्रोत्साहित करते रहने की थकान है, पलट कर अपने बीते हुए पलों को व्यर्थ जाते देखने की थकान है।

क्या यह थकान भारत में साहित्य को समर्पित लोगों को भी कभी अनुभव होती है? शायद होती होगी, परन्तु यह थकान निजी थकान है, अपनी विवशता की थकान है, इसलिए किसी से सहानुभूति की अकांक्षा रखना बेमानी है। फिर भी हर बार तौबा करने के बाद फिर से ग़लती दोहराता हूँ और वही करने में रम जाता हूँ जिससे यह थकान उपजती है। शायद यही मेरा प्रारब्ध है। क्योंकि जब मैं इस थकान के गहरे अंधकार में निष्क्रिय निर्जीव हो जाना चाहता हूँ तो कुछ ऐसा घटता है कि पुनः ऊर्जा की एक किरण फिर से मुझे सजीव कर जाती है।

पिछले दिनों ऐसा ही हुआ। अप्रैल २०१६ में हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने सावित्री थियेटर ग्रुप के साथ मिल कर मोहन राकेश के नाटक आधे अधूरे का मंचन किया था जो कि अत्यन्त सफल रहा था। तीन दिन तक लगातार मंचित होने वाले नाटक के तीनों दिन "हाउस फुल" रहे। हालाँकि आर्थिक रूप से नाटक ने लगभग अपने खर्चे ही पूरे किए थे, परन्तु गिल्ड की इच्छा थी कि जिन लोगों ने इस नाटक को मंचित करने के लिए लगभग छह महीने परिश्रम किया है उनका आभार सार्वजनिक मंच पर किया जाए। नाटक मंचन के एक वर्ष बाद आभार प्रकट करने का अवसर स्वतः प्राप्त हो गया। टोरोंटो के ला विक्टोरिया बैंक्युएट एंड कंवेन्शन सेंटर के मालिक गुप्ता दंपति ने हिन्दी राइटर्स गिल्ड को अपनी हाल की सेवाएँ निशुल्क देने की बात की। इस अवसर का लाभ उठाते हुए हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने न केवल उनका बल्कि अभी तक गिल्ड को सहायता देने वालों का आभार प्रकट करने के लिए एक बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया। क्योंकि कार्यक्रम शुक्रवार के शाम के साढ़े छह से आरम्भ होना था, इसलिए कम लोगों के आने की उम्मीद थी। लगभग दो सौ लोगों ने उपस्थित होकर आयोजन को अत्यंत सफल बना दिया (रिपोर्ट समाचार स्तंभ में पढें)। साहित्य के प्रति लोगों के प्रेम को देख कर मन गद्गद हो गया। कार्यक्रम आयोजन की सारी थकान मिट गयी। इतना ही नहीं कार्यक्रम के बाद गिल्ड के सदस्य विद्या भूषण धर के पिता पास आए और पीठ पर थपकी देने के बाद हाथ मिलाते हुए उन्होंने झुक कर मेरा हाथ चूम लिया। मैं निःशब्द उनकी ओर देखता रह गया…

- सादर
सुमन कुमार घई

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 लघुकथा की त्रासदी
|

प्रिय मित्रो, इस बार मन लघुकथा की त्रासदी…

अंक प्रकाशन में विलम्ब क्यों होता है?
|

प्रिय मित्रो, अंक प्रकाशन में विलम्ब क्यों…

आवश्यकता है युवा साहित्य की
|

प्रिय मित्रो, हिन्दी की संगोष्ठियों के आयोजक…

उलझे से विचार
|

प्रिय मित्रो, गत दिनों से कई उलझे से प्रश्न…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

पुस्तक चर्चा

कविता

किशोर साहित्य कविता

सम्पादकीय

पुस्तक समीक्षा

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं